चार साल और 30 से अधिक RTI के बाद राज्य सूचना आयोग ने दिया फैसला, बिजली कंपनी को देनी होगी अडानी के साथ हुए समझौते की जानकारी


छत्तीसगढ़ सरकार की बिजली कंपनी ने अडाणी एंटरप्राइजेज के साथ किए गए एक कोयला ब्लॉक कॉन्ट्रैक्ट के संबंध में जानकारी देने से मना कर दिया था. सूचना आयोग ने कंपनी की सभी दलीलों को खारिज करते हुए ये फैसला दिया है.
नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ राज्य सूचना आयोग ने आदेश दिया है कि राज्य बिजली कंपनी द्वारा साइन किए गए कोयला ब्लॉकों के लिए खनन विकास और संचालन (एमडीओ) अनुबंध (कॉन्ट्रैक्ट) को सूचना का अधिकार (आरटीआई) के तहत सार्वजनिक किया जाना चाहिए. आयोग ने एमडीओ अनुबंधों को गोपनीय बताने और इसे जनहित से जुड़े न होने की छत्तीसगढ़ सरकार की दलीलों को खारिज कर दिया.
आयोग ने सरकारी बिजली उत्पादन कंपनी छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत निगम लिमिटेड (सीआरवीएनएल) द्वारा दो बार एमडीओ अनुबंध और इसकी फाइल नोटिंग्स की प्रतिलिपि साझा करने से इनकार करने पर ये फैसला दिया है.
सीआरवीएनएल ने 232 एमटी गारे पेलमा सेक्टर-3 कोल ब्लॉक से कोयले के खनन, विकास और संचानल के लिए अडाणी एंटरप्राइजेज लिमिटेड और इसकी 100 फीसदी सहायक कंपनी गारे पेलमा-3 कोलियरीज लिमिटेड के साथ एमडीओ अनुबंध किया था. इसके संबंध में छत्तीसगढ़ स्थित कार्यकर्ता अलोक शुक्ला ने पिछले साल दो फरवरी को आरटीआई के जरिए एमडीओ अनुबंध की प्रमाणित प्रति और इससे संबंधित फाइल नोटिंग्स की प्रतिलिपि मांगी थी. हालांकि छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड ने शुक्ला को सूचना देने से मना करते हुए कहा कि ये जानकारी जनहित में नहीं है. इसके बाद उन्होंने अपील दायर की. लेकिन यहां से भी जवाब न मिलने पर उन्होंने राज्य सूचना आयोग का रुख किया. राज्य सरकार के अपीलीय अधिकारी ने सूचना देने से मना करते हुए कहा, 'चूंकि जानकारी व्यापक जनहित में नहीं है. ये सूचना छत्तीसगढ़ स्टेट पावर जनरेशन कंपनी लिमिटेड की बौद्धिक संपदा के अंतर्गत आती है और यह एक व्यक्ति से संबंधित है. अत: जन सूचना अधिकारी ये जानकारी देने के लिए बाध्य नहीं है.इन सभी दलीलों को खारिज करते हुए बीते एक मई को पारित आदेश में राज्य सूचना आयोग ने अनुबंध के संबंध में मांगी गई सभी सूचनाएं सार्वजनिक करने को कहा है. छत्तीसगढ़ राज्य सूचना आयुक्त एके अग्रवाल का आदेश अब सभी राज्य सरकारों के साथ-साथ कोल इंडियन लिमिटेड द्वारा साइन किए गए एमडीओ अनुबंधों को आरटीआई अधिनियम के तहत सार्वजनिक करने के लिए एक मिसाल पेश करता है. हालांकि राजस्थान और महाराष्ट्र सहित कई राज्य सरकारों ने अब तक इस जानकारी को सार्वजनिक करने से मना ही किया है. एक रिटायर्ड केंद्रीय सूचना आयुक्त ने बिजनेस स्टैंडर्ड से कहा, 'राज्य सूचना आयुक्त का अन्य राज्यों पर बाध्यकारी नहीं होता है लेकिन इससे प्रेरणा लिया जा सकता है.'
आयोग ने अपने फैसले में कहा कि यह पूरी तरह से स्पष्ट है कि एमडीओ अनुबंध सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 की परिसीमा के अंतर्गत आता है.सूचना आयुक्त एके अग्रवाल ने छत्तीसगढ़ सरकार की दलीलों को खारिज करते हुए कहा कि ये जानकारी भारत की नैसर्गिक संपदा अर्थात कोयला खदान से संबंधित है, इसके कारण इसमें पहले से ही व्यापक लोकहित/जनहित विद्यमान है.


 


 


Popular posts
राज्यपाल के कार्यक्रम में जनजाति समाज के लोगों के जीवन को खतरे में डालने कि इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्‍वविदयालय की साजिश .
Image
मध्य प्रदेश में सियासी हलचल तेज, मंत्री बिसाहूलाल सिंह को भोपाल लेजाने अचानक पंहुचा हेलीकॉप्टर
Image
महामहिम राज्यपाल का जनजाति समुदाय की ओर से विधायक पुष्पराजगढ़ ने किया स्वागत जनसमस्याओं से कराया अवगत
Image
महात्मा गांधी, एवं स्व. श्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर एक दिवसीय वालीबाल प्रतियोगिता का आयोजन, बरगवां यूथ ब्रिगेड रही विजेता
Image
राजनीति और कानून का मिश्रित नंगा स्तरहीन नाच ? ‘‘लखीमपुर खीरी"
Image