धूमधाम से निकाली मेंढक की बारात; झूमकर नाचे बाराती


 

रायसेन. जिले में 13 दिन से बारिश नहीं होने से परेशान लोगों ने मेंढक के साथ मेंढ़की का धूमधाम से विवाह कराया और ढोल नगाड़ों के साथ बारात निकाली। इसमें बाराती झूमकर नाचे। मान्यता है कि मेंढक की बारात निकालने से इंद्रदेवता प्रसन्न होंगे और अच्छी बारिश होगी। 


जानकारी के मुताबिक, रायसेन के वार्ड नंबर-18 में मेंढक की बारात निकाली गई। ढोल नगाड़ों के साथ वार्ड वासियों के घर-घर जाकर सामान इकट्ठा किया है, इसके बाद देवस्थान पर गए और दाल बाटी बनाकर इंद्रदेव को भोग लगाया। 


बारात सभी समाज के बड़े-बूढे शामिल हुए 
मेंढ़क-मेंढ़की की बारात निकाली गयी। बारात में बच्चे-बूढ़े और जवान सब शामिल हुए। असल में, रायसेन में लगातार 13 वें दिन बारिश नहीं हुई। मानसून पर ऐसा ब्रेक लगा है कि पिछले 13 दिन से जिले के किसी भी इलाके में बारिश की एक बूंद तक नही गिरी है। 


इंद्रदेव को मनाने के लिए टोना-टोटके का सहारा 


इसलिए लोग अब इंद्र देव को मनाने के लिए टोने टोटके का सहारा ले रहे हैं। बारात में बैंडबाजा भी था। बाराती भी झूमते-गाते चल रहे थे। बच्चों के उल्लास का तो जबाव ही नहीं था।


समाज के लोग मेंढक और मेंढकी को पकड़ कर उनकी बारात निकालते हैं। फिर मंदिर में शादी करने के बाद वापस छोड़ देते हैं। समाज के लोगों का मानना है कि मेंढक रानी की बारात निकालने के बाद इंद्र देव प्रसन्न होते हैं और इस अनुष्ठान के बाद इलाके में बारिश जरूर होती है। 





Popular posts
राज्यपाल के कार्यक्रम में जनजाति समाज के लोगों के जीवन को खतरे में डालने कि इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्‍वविदयालय की साजिश .
Image
मध्य प्रदेश में सियासी हलचल तेज, मंत्री बिसाहूलाल सिंह को भोपाल लेजाने अचानक पंहुचा हेलीकॉप्टर
Image
महामहिम राज्यपाल का जनजाति समुदाय की ओर से विधायक पुष्पराजगढ़ ने किया स्वागत जनसमस्याओं से कराया अवगत
Image
महात्मा गांधी, एवं स्व. श्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर एक दिवसीय वालीबाल प्रतियोगिता का आयोजन, बरगवां यूथ ब्रिगेड रही विजेता
Image
राजनीति और कानून का मिश्रित नंगा स्तरहीन नाच ? ‘‘लखीमपुर खीरी"
Image