एमपीईबी कांड के आरोपी पुलिस की हिरासत में,ना तो कोर्ट में पेश किया, ना छोड़ा

भोपाल (भोपाल पुलिस की टीम ने मोरबा पुलिस को भी गुमराह किया था। पंद्रह जुलाई को भोपाल पुलिस दोनों को लेकर मोरबा थाने से रवाना हुई थी, लेकिन एक दिन वही रूक गई। पूछताछ के बाद दूसरे दिन टीम वहां से आरोपियों को लेकर रवाना हो गई थी और मंगलवार-बुधवार की दरमियानी रात शाहजहांनाबाद थाने पहुंच गई थी। । मध्यप्रदेश विद्युत मंडल (एमपीईबी) में हुए 18 लाख रुपए के घोटाले में भोपाल पुलिस ने दो आरोपियों को सिंगरौली से हिरासत में लिया है। पुलिस आरोपियों को लेकर भोपाल आ गई है। उनकी हिरासत अवधि तीन दिन की हो गई है, लेकिन उन्हें ना तो अदालत में पेश किया गया है और ना उन्हें थाने से छोड़ा गया हैपुलिस ने ट्रांजेक्शन वारंट हासिल करने के लिए सिंगरौली की अदालत में आवेदन भी नहीं लगाया है। यह कारनामा शाहजहांनाबाद पुलिस ने कर दिखाया है। शाहजहांनाबाद थाना पुलिस ने एमपीईबी के कैशियर की आईडी और पासवर्ड चोरी कर 18 लाख रुपए की राशि का आहरण करने के मामले में धोखाधड़ी और आईटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किया था। आईडी भोपाल में तैयार की गई थी और राशि का आहरण सिंगरौली से हो रहा था। शाहजहांनाबाद टीआई जहीर खान ने मामले की जांच सब इंसपेक्टर सुबोध गौतम को दी थी। गौतम के नेतृत्व में एक टीम सिंगरौली गई थी। सिंगरौली के मोरबा थाना क्षेत्र से भोपाल पुलिस ने 15 जुलाई को दोपहर में अतुल कुमार पांडे और राकेश कुमार भारती को हिरासत में लिया था। इस मामले में गौतम और उनकी टीम की मोरबा पुलिस ने भी मदद की थी। बताते हैं कि दोनों विद्युत मंडल में संविदा कर्मचारी हैं और दोनों को लेकर टीम भोपाल आ गई है। भोपाल आए चौबीस घंटे से अधिक का समय हो गया है, लेकिन पुलिस ने उन्हें ना तो अदालत में पेश किया और ना छोड़ा है, जो नियमतः गलत है। मोरबा पुलिस को किया गुमराहः आरोपियों को हिरासत में लेने के बाद  भोपाल पुलिस की टीम ने मोरबा पुलिस को भी गुमराह किया था। पंद्रह जुलाई को भोपाल पुलिस दोनों को लेकर मोरबा थाने से रवाना हुई थी, लेकिन एक दिन वही रूक गई। पूछताछ के बाद दूसरे दिन टीम वहां से आरोपियों को लेकर रवाना हो गई थी और मंगलवार-बुधवार की दरमियानी रात शाहजहांनाबाद थाने पहुंच गई थी।सिंगरौली से जब्त की कार पुलिस ने राकेश भारती और अतुल पांडे को हिरासत में लेने के साथ भारती के पास से एक कार भी जब्त की है। कार शाहजहांनाबाद थाना परिसर में खड़ी है। सूत्रों की माने तो पुलिस ने उसका भी जब्ती पत्रक नहीं बनाया गया है। कार को सड़क मार्ग से लाया गया है और उसका रिकार्ड भी टोल बैरियर के सीसीटीवी कैमरे में उपलब्ध है।शाहजहांनाबाद टीआई जहीर खान पहले कहा कि टीम गई है, लेकिन अभी आई नहीं है। बाद में कहा कि हमने पूछताछ की है, लेकिन अभी आरोपी नहीं बनाया है। चौबीस घंटे से ज्यादा हिरासत में रखने के मामले में उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया है।


ह मामला मेरी जानकारी में नहीं है। पता करने के बाद ही इस बारे में कुछ बता पाऊंगा।


शैलेंद्र सिंह चौहान एसपी उत्तर भोपाल


Popular posts
राज्यपाल के कार्यक्रम में जनजाति समाज के लोगों के जीवन को खतरे में डालने कि इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्‍वविदयालय की साजिश .
Image
मध्य प्रदेश में सियासी हलचल तेज, मंत्री बिसाहूलाल सिंह को भोपाल लेजाने अचानक पंहुचा हेलीकॉप्टर
Image
महामहिम राज्यपाल का जनजाति समुदाय की ओर से विधायक पुष्पराजगढ़ ने किया स्वागत जनसमस्याओं से कराया अवगत
Image
महात्मा गांधी, एवं स्व. श्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर एक दिवसीय वालीबाल प्रतियोगिता का आयोजन, बरगवां यूथ ब्रिगेड रही विजेता
Image
राजनीति और कानून का मिश्रित नंगा स्तरहीन नाच ? ‘‘लखीमपुर खीरी"
Image