बैंक खाता में 70 हजार रुपये रिश्वत की रकम मांगने वाले सीईओ पर नहीं हुई कार्यवाही , सरपंच की चेतावनी 15 अगस्त को करुगा आत्मदाह

एक तरफ मध्यप्रदेश में नई सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने  जो प्राथमिकताएँ तय की और जिस नई सोच के साथ काम शुरू किया उसमें सबसे पहले  आदिवासियों, पिछड़े क्षेत्रों और पिछड़े वर्गों की चिंता की और उनके हित में कई फैसले किए। प्रदेश में आदिवासी विकास के सर्वांगीण विकास और उनके हित में काम करने के लिये   अंतर्राष्ट्रीय आदिवासी दिवस पर अनेको घोषणाएं भी किये  वहीं दूसरी ओर अनूपपुर जिले के  जनपद जैतहरी के ग्राम पंचायत वेंकटनगर के आदिवासी सरपंच अपने सम्मान की लड़ाई के बाद अब तक दोषी के खिलाफ कार्यवाही नही होने एवं पूर्व में 22 जुलाई को प्रशासन को दी गई सूचना के बाद जहां एक फिर सरपंच दादूराम ने 9 अगस्त को एक बार फिर प्रशासन को 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के दिन वेंकटनगर के झंडा चौक में आत्मदाह की चेतावनी देते हुए सम्पूर्ण जवाबदारी प्रशासन पर डाली गई है।



 अनूपपुर / वेंकटनगर। एक तरफ प्रशासन जिला स्तर पर कार्यक्रम कर आदिवासियों की मौजूदा हलात, समस्याएं और उनकी उपलब्धियों का गुणगान करने में लगी रही, वहीं दूसरी ओर आदिवासी सरपंच अपने आत्मसम्मान की लड़ाई लडते हुए जनपद जैतहरी के सीईओ द्वारा की गई अभद्रता एवं अपशब्दो के प्रयोग पर पुलिस की मौन स्वीकृति के साथ प्रशासन पर हठधार्मिता का आरोप लगाया है। सरपंच दादूराम पनिका ने बताया कि प्रशासन सिर्फ दिखावा करते हुए आदिवासी समुदायो के साथ गहरा लगाव की बड़ी-बड़ी बात करती है। जिसके कारण जनपद सीईओ की प्रताडऩा एवं 2 माह बीत जाने के बाद भी शासन एवं प्रशासन द्वारा अब तक कोई कार्यवाही नही की गई है। जिसके बाद 9 अगस्त को एक बार फिर से सरपंच दादूराम पनिका ने वेंकटनगर चौकी में एक बार फिर सूचना देते हुए १५ अगस्त स्वतंत्रता दिवस के दिन झंडा चौक में आत्मदाह करने की चेतावनी दी है। मामले की जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत वेंकटनगर सरपंच दादूराम पनिका द्वारा पंचायत में किए गए कार्य का मटेरियल का भुगतान 3.44 लाख बकाया था, जिस पर सरपंच दादूराम पनिका एवं उप सरपंच वेद प्रकाश पांडेय जनपद सीईओ ईमरान सिद्धकी से मुलाकात कर राशि तत्काल भुगतान किए जाने की बात कही। जहां 24 अप्रैल को सीईओ ने पंचायत में किए गए कार्यो की राशि का भुगतान किए जाने के एवज में वेंकटनगर सचिव सुंदरलाल से 70 हजार रूपए की मांग करते हुए कोतमा निवासी फिरोज खान का खाता नंबर देते हुए रूपए डाले जाने का की बात कही थी, जिस पर सरपंच एवं उप सरपंच ने कमीशन के रूम में मांग की गई राशि को देने से इंकार कर कर दिया, वहीं लगातार सीईओ द्वारा सचिव पर लगातार दवाब बनाने पर उक्त फिरोज खान के बैंक खाते में मात्र 700 रूपए डाल दिए थे। जिस बात को लेकर सीईओ आग बबूला होते हुए पंचायत पहुंच सरपंच के साथ अभद्रता करते हुए अपमान जनक शब्दो का प्रयोग किया गया था, जिसकी शिकायत सरपंच ने तत्काल ही वेंकटनगर चौकी मे शिकायत दर्ज करवाते हुए तत्काल कार्यवाही की मांग की थी।सरपंच दादूराम पनिका ने बताया कि जनपद जैतहरी सीईओ इमरान सिद्वकी द्वारा मांगी गई रिश्वत की राशि देने से मना किए जाने के बाद जहां आग बबूला होते हुए पंचायत भवन में पहुंच अपमानजनक शब्दो के साथ अश्लील  गालियां दी थी, जिसके बाद आदिवासी सरपंच ने सीईओ की लिखित शिकायत चौकी वेंकटनगर सहित संभागायुक्त, कलेक्टर, जिला पंचायत सीईओ सहित प्रभारी मंत्री प्रदीप जायसवाल से की थी, लेकिन सीईओ के खिलाफ किसी तरह की कार्यवाही नही होने एवं जिला प्रशासन द्वारा सीईओ इमरान सिद्धकी को बचाए जाने की बात कही, जिस पर आदिवासी सरपंच ने अपने सम्मान को बचाए रखने दूसरी बार 9 अगस्त को विश्व आदिवासी दिवस पर एक बार फिर से वेंकटनगर चौकी में १५ अगस्त के दिन आत्मदाह करने प्रशासन को चेताया है।
विरेन्द्र तिवारी, चौकी प्रभारी वेंकटनगर  के अनुशार सरपंच द्वारा आत्मदाह की लिखित सूचना दी है, जिसके बाद मैने तत्काल वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना देते हुए मार्गदर्शन मांगा गया है।