बीईओ को लोकायुक्त ने किया 5000 की रिश्वत लेते गिरफ्तार

खरगोन जिले के कसरावद में गुरुवार को लोकायुक्त टीम ने रिश्वतखोर बीईओ पर ट्रैपिंग कार्रवाई की । कसरावद में पदस्थ विकासखंड शिक्षा अधिकारी अनिल शर्मा ने ढालखेड़ा में पदस्थ सहायक शिक्षक राकेश वर्मा से सितंबर-अक्टूबर में उनके मेडिकल बिल के भुगतान के एवज में दस हजार रुपए बतौर रिश्वत मांगे थे। शिकायत के आधार पर लोकायुक्त पुलिस गुरुवार को शिक्षक राकेश वर्मा को पांच हजार की पहली किस्त देने भेजा। बीईओ ने रुपए लेकर पेंट की जेब में रखे, तभी लोकायुक्त टीम पहुंच गई और बीईओ शर्मा को रंगेहाथ पकड़ लिया।



खरगोन. लोकायुक्त पुलिस ने प्रभारी ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर को गुरुवार 5 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया। आरोपी ने मेडिकल लीव का डेढ़ माह का वेतन निकालने के एवज में शिक्षक से 10 हजार रुपए की रिश्वत की मांग की थी। फरियादी के बेटे की शिकायत पर टीम ने कसरावद के स्तंभ चौक पर दबिश देकर उसे रंगेहाथ पकड़ा। लोकायुक्त डीएसपी शिव सिंह यादव बताया कि फरियादी के बेटे ऋतिक वर्मा निवासी ढालखेड़ा खरगोन ने इंदौर लोकायुक्त पुलिस को 11 फरवरी को शिकायत की थी कि उसके पिता राकेश वर्मा ढालखेड़ा में सहायक प्राध्यापक के पद पर कार्यरत हैं। सितंबर  अक्टूबर महीने में उनकी तबीयत खराब हो गई थी। इस पर उन्होंने मेडिकल लीव ली थी। ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर अनिल शर्मा को सभी दस्तावेज दिखाने के बाद भी वे मेडिकल लीव का डेढ़ माह का वेतन निकालने के एवज में पिता से 10 हजार की मांग कर रहे हैं। शिकायत के बाद लाेकायुक्त ने प्लानिंग के तहत फरियादी को रिश्वत के पांच हजार रुपए लेकर आरोपी के पास भेजा। आरोपी ने कसरावद में विजय स्तंभ चौराहा के पास फरियादी को बुलाया। जहां रिश्वत की राशि देते ही पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के अनुसार शर्मा उत्कृष्ट हायर सेकेंडरी स्कूल में प्राचार्य होने के साथ ही वर्तमान में ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर के पद पर पदस्थ हैं। वहीं, फरियादी ऋतिक ने बताया कि अब तक वे शर्मा को 8 हजार रुपए दे चुके हैं।