आम जनता’’ के लिए बजट! परन्तु ‘‘आम’’ व्यक्ति गायब?
क्या यह बजट सिर्फ 1%(मध्यमवर्ग) लोगों के लिए है?                वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण संसद में पांचवी बार बजट पेश करते हुए जब वह आयकर की छूट के बाबत घोषणा कर रही थी, तब उन्होंने यह कहा कि मध्यमवर्ग (मीडियम क्लास) के लिए वह विशेष छूट लेकर आई हैं। बजट के पूर्व भी उन्होंने कहा था कि व…
Image
शिक्षाविद गिजूभाई सम्मान 2023 राज्य स्तरीय सम्मान से सम्मानित हुए शिक्षक
रेल्वे स्टेशन अनूपपुर में किया गया भव्य स्वागत अनूपपुर! बसंत पंचमी के पावन अवसर पर जिला अनूपपुर से अनेकों शिक्षक राज्य स्तरीय शिक्षाविद् गिजूभाई सम्मान 2023 में चयनित होकर शिक्षा मंत्री के हाथों से सम्मनित हुए। यह कार्यक्रम शुजालपुर जिला शाजापुर में आयोजित हुआ था। जिसका आयोजन शिक्षक संदर्भ समूह राज…
Image
मुख्यमंत्री संभाग स्तरीय वॉलीबॉल प्रतियोगता कप में अनूपपुर का कब्ज़ा
बालक ,बालिका दोनों वर्ग में अनूपपुर ने जीता मैच अनूपपुर/मध्यप्रदेश शासन खेल एवं युवा कल्याण विभाग द्वारा आयोजित संभाग स्तरीय वालीवाल खेलकूद प्रतियोगिता में अनूपपुर जिले की टीम बालक और बालिका दोनों वर्ग में विजेता रही है दिनांक 20 एक 2023 को संभाग स्तरीय प्रतियोगिता का आयोजन गांधी स्टेडियम शहडोल मे…
Image
खेलो इंडिया यूथ गेम टार्च रैली का तुलसी महाविद्यालय में हुआ स्वागत
तुलसी काॅलेज से जिला खेल परिसर तक रैली आयोजित अनूपपुर 19 जनवरी 2023/ खेलो इंडिया यूथ गेम्स की टार्च भोपाल से होते हुए 21 जनवरी को अपरान्ह 2 बजे पहुँची।मध्यप्रदेश शासन खेल एवं युवा कल्याण विभाग के खेल संचालक रवि कुमार गुप्ता अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक टीटी नगर स्टेडियम भोपाल एवं संयुक्त संचालक डॉ …
Image
बरगवां अमलाई मेला मैदान अतिक्रमण की चपेट में ,अतिक्रमण होने से हाट बाजार में बदल गया मकर संक्रांति का मेला
लगभग 2.24 एकड़ बेशकीमती मेला भूमि पर चेतराम चौरसिया दवारा अवैध रूप किया गया अतिक्रमण बरगवां अमलाई/बरगवां में विगत कई वर्षो से लगाया जा रहा मकर संक्राति का बृहद मेला अब अपनी पूरी रौनक खो चुका है। अब यहां महज मेला के नाम पर औपचारिकता ही निभाई जाती है। इसकी वजह है कि मेला जिस मैदान पर लगाया जाता ह…
Image
मकर संक्रांति के उपरांत, स्थानीय निकाय नगर पंचायत जैतहरी के चुनाव की राजनीतिक संक्रांति मेला पर नजर डालें, उससे पूर्व मन की बात
अनूपपुर । "किसी भी मत के अनुगामी दो तरह के होते हैं पहले वे जो उस मत को आत्मसात करते हैं दूसरे वे जो लकीर के फकीर बने मात्र भोंपू होते हैं। इन्हें डरकती जमीर और खिसकती जमीन से कोई वास्ता नही होता। राजनीति के क्षेत्र में ऐसे भोपूओं का आचरण सत्ता के स्वाद पर निर्भर रहता है। स्वादानुसार रंग बदलने…
Image