सिविल अस्पताल में खून चढ़ाने के बाद ढाई साल की बच्ची की मौत

 




सेंधवा (बड़वानी) | वरला तहसील के बाखर्ली गांव की 2.5 वर्षीय एनिमिक बालिका की सिविल अस्पताल में खून चढ़ाने के 24 घंटे बाद मौत हो गई। पीएम में मौत का कारण स्पष्ट नहीं हुआ। परिजन का आरोप है कि गलत तरीके से खून चढ़ाने के कारण बालिका की मौत हो गई।


उन्होंने एसडीएम को आवेदन देकर कार्रवाई की मांग की है। बाखर्ली के चतरसिंह डावर ने कहा, उसके भाई सुनील की बेटी वैशाली (2.5) की गांव में दस्तक अभियान के तहत आशा कार्यकर्ता ने जांच कर कहा था कि सिविल अस्पताल सेंधवा में खून चढ़ाना होगा। बुधवार सुबह आशा कार्यकर्ता वैशाली और उसकी मां को लेकर अस्पताल पहुंची। रात 9 बजे नर्स ने खून चढ़ाना शुरू किया। आधे घंटे बाद वैशाली को उल्टी-दस्त होने लगे। नर्स ने खून चढ़ाना बंद किया। फिर डॉक्टर ने वैशाली को इंजेक्शन लगाकर डिस्चार्ज कर दिया। रात उसकी मौत हो गई है। 


 



Popular posts
राज्यपाल के कार्यक्रम में जनजाति समाज के लोगों के जीवन को खतरे में डालने कि इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्‍वविदयालय की साजिश .
Image
मध्य प्रदेश में सियासी हलचल तेज, मंत्री बिसाहूलाल सिंह को भोपाल लेजाने अचानक पंहुचा हेलीकॉप्टर
Image
महामहिम राज्यपाल का जनजाति समुदाय की ओर से विधायक पुष्पराजगढ़ ने किया स्वागत जनसमस्याओं से कराया अवगत
Image
महात्मा गांधी, एवं स्व. श्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर एक दिवसीय वालीबाल प्रतियोगिता का आयोजन, बरगवां यूथ ब्रिगेड रही विजेता
Image
राजनीति और कानून का मिश्रित नंगा स्तरहीन नाच ? ‘‘लखीमपुर खीरी"
Image