सिविल अस्पताल में खून चढ़ाने के बाद ढाई साल की बच्ची की मौत

 




सेंधवा (बड़वानी) | वरला तहसील के बाखर्ली गांव की 2.5 वर्षीय एनिमिक बालिका की सिविल अस्पताल में खून चढ़ाने के 24 घंटे बाद मौत हो गई। पीएम में मौत का कारण स्पष्ट नहीं हुआ। परिजन का आरोप है कि गलत तरीके से खून चढ़ाने के कारण बालिका की मौत हो गई।


उन्होंने एसडीएम को आवेदन देकर कार्रवाई की मांग की है। बाखर्ली के चतरसिंह डावर ने कहा, उसके भाई सुनील की बेटी वैशाली (2.5) की गांव में दस्तक अभियान के तहत आशा कार्यकर्ता ने जांच कर कहा था कि सिविल अस्पताल सेंधवा में खून चढ़ाना होगा। बुधवार सुबह आशा कार्यकर्ता वैशाली और उसकी मां को लेकर अस्पताल पहुंची। रात 9 बजे नर्स ने खून चढ़ाना शुरू किया। आधे घंटे बाद वैशाली को उल्टी-दस्त होने लगे। नर्स ने खून चढ़ाना बंद किया। फिर डॉक्टर ने वैशाली को इंजेक्शन लगाकर डिस्चार्ज कर दिया। रात उसकी मौत हो गई है। 


 



Popular posts
कोरोना वायरस के चलते घरों में सादगी से पूजा पाठ एवं हवन यज्ञ कर मनाये परशुराम जयंती-चैतन्य मिश्रा
Image
कोरोना वैक्सीन सभी लगवाएं स्वास्थ्य में कोई प्रभाव नहीं पड़ता- हिमांशु बियानी
Image
एसईसीआर मजदूर कांग्रेस बिलासपुर मंडल ने रेलवे बिलासपुर मंडल के 18 वर्ष से ऊपर रेल कर्मचारियों को रेल क्षेत्र में टीकाकरण कराने म.प्र.सी.एम. को लिखा पत्र
Image
अनूपपुर जिले में 19 अप्रेल तक लॉक डाउन बढ़ाया गया
Image
ग्रामीण अंचलों में हालात गंभीर है प्रशासन चेते नहीं तो स्थिति भयावह होगी-फुन्देलाल सिंह मार्को
Image