22 भ्रष्ट सीनियर अधिकारियों को नौकरी से निकाला,


नई दिल्ली। केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड  ने सोमवार को 22 और वरिष्ठ अधिकारियों को रिटायर कर दिया। इन अधिकारियों पर जनहित में मौलिक नियम 56 के तहत रिटायर किया गया है। इन अधिकारियों पर भ्रष्टाचार और अन्य आरोपों के कारण गाज गिरी है । ये सभी अधिकारी अधीक्षक/एओ रैंक के हैं। यह कदम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लालकिले की प्राचीर से स्वतंत्रता दिवस पर देश के संबोधन के बाद उठाया गया है। इस दौरान उन्होंने कहा था कि 'कर प्रशासन में कुछ लोग अपने शक्तियों का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं। वे इसका इस्तेमाल करदाताओं का उत्पीड़न करने के लिए कर रहे हैं। उन्होंने कहा था कि हम इस प्रकार के व्यवहार को बर्दाश्त नहीं करेंगे। हमने हाल ही में कर अधिकारियों की एक महत्वपूर्ण संख्या को अनिवार्य रूप से रिटायर करने का साहसिक कदम उठाया है।CBIC के एक अधिकारी ने कहा, 'हमने हाल ही में कर अधिकारियों की एक महत्वपूर्ण संख्या को अनिवार्य रूप से सेवानिवृत्त करने का साहसिक कदम उठाया है। हम इस तरह के व्यवहार को बर्दाश्त नहीं करेंगे। गौरतलब है कि 27 जून को, केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड  के 12 अधिकारियों सहित उच्च रैंकिंग वाले भारतीय राजस्व सेवा अधिकारियों को अनिवार्य रूप से सेवानिवृत्त कर दिया गया था। विभाग इसके अलावा राजस्व संग्रह को बढ़ाने और देश में कर-भुगतान करने वाले लोगों की संख्या बढ़ाने की कोशिश कर रहा है। 


Popular posts
मध्यप्रदेश विधि और विधायी कार्य विभाग ने शहडोल के 4 बुढ़ार के 2, जैतपुर के 2 और जयसिंहनगर के 02 अधिवक्ताओ को नोटरी कार्य के लिए किया नियुक्त
Image
अन्नदाता एवं किसानों की समस्याओं से वाकिफ हूं-फुंदेलाल
Image
रेलवे मजदूर कांग्रेस मंडल कार्मिक अधिकारी से कर्मचारियों की समस्याओं पर की चर्चा और किया स्वागत
Image
कोरोना वालेंटियर दीवार लेखन के माध्यम से दूसरे डोज के लिए ग्रामीणों को जागरूक कर रहे!
Image
पत्रकारों के परिजनों की सहायता के लिये हमेशा तत्पर -- सोनिया मीणा
Image