किशोर कुमार के प्रशंसकों ने उनके जन्म स्थान खंडवा में मनाई उनकी 90 वीं जयंती

 

मप्र/खंडवा, मध्यप्रदेश के खंडवा शहर में महान गायक, अभिनेता और फिल्म निर्माता किशोर कुमार के चाहने वालों ने रविवार चार अगस्त को उनकी 90वीं जयंती मनायी और उनके स्मारक स्थल पर श्रद्धांजलि अर्पित की। किशोर कुमार का जन्म 4 अगस्त 1929 को खंडवा में हुआ था। देश के अलग-अलग हिस्सों से यहां इकट्ठा हुए उनके प्रशंसकों ने कस्बे में उनके स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की और 'दूध-जलेबी' का प्रसाद वितरित किया। दूध-जलेबी किशोर कुमार को बेहद पसंद थी। किशोर सांस्कृतिक प्रेरणा मंच के प्रवक्ता सुनील जैन ने कहा, ''यहां आये लोगों को हमने दुध-जलेबी बांटा जो कि उन्हें (किशोर कुमार) बेहद पसंद थी। प्रसिद्ध गायक विनोद राठौड़ भी किशोर कुमार को श्रद्धांजलि देने के लिए स्मारक पहुंचे। जैन ने कहा कि किशोर दा अक्सर कहते थे, ''दुध जलेबी खायेगे, खंडवा में बस जायेंगे।'' किशोर कुमार की जयंती के अवसर पर उनके स्मारक स्थल पर उनके कुछ लोकप्रिय गीत भी गाए गए। शनिवार को उनकी जयंती की पूर्व संध्या पर ऑल इंडिया किशोर कुमार फैन्स क्लब के बैनर तले उनके प्रशंसकों ने गाते हुए उल्लास के साथ बॉम्बे बाजार स्थित उनके बचपन के निवास से उनके स्मारक स्थल तक जुलूस निकाला। महान गायक के प्रशंसकों ने मांग की कि किशोर कुमार को मरणोपरांत ''भारत रत्न'' दिया जाना चाहिए और उनके पैतृक घर को संग्रहालय में बदल दिया जाना चाहिए। लखनऊ से आए गायक के प्रशंसक देव किशोर ने कहा कि वे किशोर के लिए भारत रत्न चाहते हैं, जिन्हें वे भगवान के रूप में मानते हैं। अहमदाबाद के एक अन्य प्रशंसक पराग मेहता ने कहा, “मैं पिछले 21 सालों से किशोर दा के गाने गा रहा हूं। दुनिया में ऐसा कोई कलाकार पैदा नहीं हुआ। मैं उनकी पूजा करता हूं और मांग करता हूं कि उन्हें भारत रत्न दिया जाए।” उनके स्मारक के अलावा शहर के सीताराम चौक और बुधवारा में भी महान गायक की स्मृति में कार्यक्रम आयोजित किये गये और कलाकारों ने गीत प्रस्तुत किये। किशोर कुमार 18 वर्ष की आयु में खंडवा से मुम्बई गये थे। इससे पहले उन्होंने अपना बचपन खंडवा में बिताया था। फिल्मों में अभिनय और निर्देशन के अलावा किशोर कुमार ने ख्यात अभिनेता देव आनंद, राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन तक कई सितारों को अपनी आवाज दी।