चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली कानून की छात्रा गिरफ्तार, 14 दिन के लिए जेल भेजा

 पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर आरोप लगाने वाली लड़की को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. लड़की पर चिन्मयानंद से उगाही करने का आरोप था. इसका एक वीडियो भी सामने आया था, जिसके बाद लड़की और उसके तीन साथियों पर पुलिस ने केस दर्ज किया था



शाहजहांपुर केस में पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली लड़की को रंगदारी के मामले में स्थानीय कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. इससे पहले एसआईटी टीम ने आज सुबह लड़की को गिरफ्तार किया था. लड़की पर चिन्मयानंद से उगाही करने का आरोप है. इस संबंध में एक वीडियो भी सामने आया था, जिसके बाद लड़की और उसके तीन साथियों पर पुलिस ने केस दर्ज किया था.स्वामी चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के मामले में एसआईटी ने बुधवार को कोतवाली पुलिस के साथ आरोपी लड़की को गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तार करने के बाद छात्रा को चौक कोतवाली लाया गया. यहां से उसे जिला अस्पताल ले जाया गया जहां उसका मेडिकल कराया गया.गिरफ्तारी पर उत्तर प्रदेश पुलिस के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि स्पेशल इनवेस्टीगेशन टीम  ने स्वामी चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली कानून की छात्रा को उनसे पैसे मांगने की कोशिश करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है.कोर्ट ने अग्रिम जमानत के लिए 26 सितंबर को एसआईटी से तथ्य पेश करने को कहा था, लेकिन एसआईटी ने आज उसे गिरफ्तार कर लिया.लड़की की ओर से दाखिल अग्रिम जमानत पर 26 सितंबर यानी कल सुनवाई होनी है.इससे पहले स्वामी चिन्मयानंद से 5 करोड़ की रंगदारी मांगने के मामले में मंगलवार को SIT ने पीड़िता के दोस्त विक्रम और सचिन को रिमांड पर लिया था. अदालत से एसआईटी को 95 घंटे की रिमांड मिली है. दोस्तों के रिमांड पर लिए जाने के बाद पीड़िता की गिरफ्तारी की आशंका बढ़ गई थी.


Popular posts
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image