हनीट्रैप मामला का /सरकार ने बदला एसआईटी चीफ, एडीजी शमी को मिली जिम्मेदारी


मध्यप्रदेश की सियासत में हलचल पैदा कर देने वाले हनीट्रैप कांड में नेताओं-अफसरों के आपत्तिजनक वीडियो बनाने वाली ब्लैकमेलर गैंग की करतूतों की जांच के लिए सोमवार को गठित 12 सदस्यीय एसआईटी के चीफ को सरकार ने 24 घंटे के भीतर ही बदल दिया। अब इसकी जिम्मेदारी तेजतर्रार अफसरों में शुमार एडीजी संजीव शमी को दी गई है। इससे पहले इस टीम के चीफ 1997 बैच के आईपीएस डी श्रीनिवास वर्मा थे। चीफ को बदले जाने पर प्रशासन ने कहा कि आईजी वर्मा ने ही इच्छा जाहिर की थी कि उन्हें इस जिम्मेदारी से दूर रखा जाए। हालांकि आईजी वर्मा ने इस संबंध में ज्यादा कुछ कहने से मना करते हुए सिर्फ इतना कहा कि न मैंने एसआईटी प्रमुख बनने के लिए आवेदन किया था और न ही हटने के लिए।मंगलवार सुबह हनीट्रैप मामले की जांच के लिए एसआईटी के प्रमुख के तौर पर डी श्रीनिवास वर्मा ने काम शुरू कर दिया था। दोपहर तक केस से जुड़ीं फाइलें भी देखीं। शाम को उन्हें पता चला कि अब संजीव शमी एसआईटी के प्रमुख होंगे।एसआईटी में उनके अलावा एसपी, एएसपी, सीएसपी और इंस्पेक्टर स्तर के लगभग 12 अफसरों को शामिल किया जाएगा। उधर, इंदौर नगर निगम के प्रभारी आयुक्त कृष्ण चैतन्य ने अधीक्षण यंत्री हरभजन सिंह को निलंबित कर दिया है। इस पूरे मामले की अब भ्रष्टाचार के एंगल से भी जांच होगी। जिसमें देखा जाएगा कि जिन-जिन अफसरों और नेताओं के वीडियो मिले, उन्होंने किन-किन लोगों और संस्थाओं को कितना फायदा पहुंचाया। डीजीपी विजय कुमार सिंह ने एसआईटी को इस घटना के हर पहलू की बारीकी से जांच कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने का निर्देश दिए हैं। मामले में डीजीपी का कहना है कि जांच एक जिले तक सीमित नहीं है। बहुत सी जानकारियां सामने आ रही हैं, इसको देखते हुए एसआईटी का गठन किया गया है। 


Popular posts
जनप्रतिनिधियों और मुख्य नगरपालिका अधिकारी आपस में सामंजस्य स्थापित कर करे अनूपपुर का विकास : श्रीमती डॉक्टर प्रवीण त्रिपाठी
Image
जंगली सुअर के शिकार के लिए लगाए गए धारा प्रवाहित तार में फंसने से किसान हुई मौत
Image
शंकर बाबू की धर्मपत्नी दुलारी शर्मा के निधन पर आर्यवर्त ब्राह्मण महासभा के द्वारा दी गई श्रद्धांजलि
Image
प्रदेश के 43 जिलों में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू
भोपाल में सेना के ईएमई सेन्टर में 15 जवान संक्रमित,शहर में आज 206 नए केस मिले