टूटी सारी सीमाएं दिल्ली में ट्रक का कटा 2 लाख 500 रुपये का चालान राम ने भरा जुर्माना ,अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना

ओवरलोड था ट्रक, ड्राइवर के पास  लाइसेंस, आरसी , फिटनेस ,परमिट और  बीमा के पेपर नहीं थे ,ट्रक मालिक ने दिल्ली की रोहिणी कोर्ट में 2 लाख 500 रुपए का चालान जमा किया



नई दिल्ली/देश में एक सितंबर से नए मोटर व्हीकल एक्ट के लागू होने के बाद से भारी भरकम चालान की खबरें लगातार सामने आ रही हैं। इन खबरों के सामने आने के साथ ही एक के बाद एक जुर्माने के सारे रिकॉर्ड भी टूटते नजर आ रहे हैं। किसी स्कूटी वाले का 23 हजार रुपये का चालान कटा तो किसी को 46 हजार रुपये के जुर्माने की रसीद थमा दी गई। पिछले दिनों दिल्ली में ट्रैफिक नियम तोड़ने पर एक ट्रक पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया। इन सारे रिकॉर्ड्स को तोड़ते हुए दिल्ली में ही अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना लगाया गया। मामला राजधानी के मुबारका चौक के पास का है, जहां पर एक ट्रक का दो लाख 500 रुपये का चालान कटा है। दरअसल राजस्थान के इस ट्रक का चालान ओवर लोंडिंग यानी की तय सीमा से ज्यादा माल लदे होने की वजह से काटा गया है।ट्रक ड्राइवर का नाम राम किशन है। दअसल, मोटर व्हीकल एक्ट जबसे लागू हुआ है तबसे ही इसको लेकर बहस जारी है। बीजेपी शासित राज्यों समेत कई राज्य सरकारों ने इस कानून को लागू करने से इनकार कर दिया या फिर जुर्माने की राशि आधी कर दी। एक देश एक विधान की बात करने वाली बीजेपी की प्रचंड बहुमत वाली सरकार अपनी ही राज्य सरकारों से केंद्र द्वारा पारित कानून लागू नहीं करवा पाई है।मोटर व्हीकल एक्ट जिन राज्यों ने लागू किया है वो भी अब चालान की रकम को कम करने पर विचार कर रहे हैं। पहले पीएम मोदी का गृहप्रदेश गुजरात और बाद में कई अन्य राज्यों ने चालान कम कर दिया है
११ राज्यों में अभी लागू नहीं 
आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, छत्तीसगढ़, मध्‍य प्रदेश, उत्‍तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, राजस्‍थान, गोवा , महाराष्‍ट्र , पंजाब, त्रिपुरा.जिसमे गोवा महाराष्ट्र त्रिपुरा बीजेपी शाषित प्रदेश है 
 इन राज्यों में पूरी तरीके से लागू
दिल्ली, बिहार, हरियाणा, अंण्डमान, दादर नगर हवेली, चंडीगढ़, पुंडूचेरी, जम्‍मू एवं कश्‍मीर, केरल, झारखण्‍ड, हिमाचल प्रदेश, असम.


Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image