महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन के बयां को लेकर बीजेपी और शिवसेना के बीच सियासी जंग जारी

बीजेपी के  राष्ट्रपति शासन की धमकी वाले बयां पर शिवसेना भड़की कहा  की  राष्ट्रपति की मुहर वाला रबर स्टेंप राज्य के भाजपा ऑफिस में ही रखा हुआ है क्या राष्ट्रपति आपकी जेब में हैं ?



मुंबई. महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर भाजपा और शिवसेना के बीच  सियासी बयानबाजी जारी है।शनिवार को शिवसेना सांसद संजय राउत ने भाजपा नेता सुधीर मुनगंटीवार के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया दी। राउत ने कहा कि भाजपा क्या विधायकों को धमकी दे रही है? शुक्रवार को मुनगंटीवार ने कहा था कि राज्य राष्ट्रपति शासन की ओर बढ़ रहा है।शिवसेना ने सामना में यह भी  लिखा कि कानून, संविधान और संसदीय लोकतंत्र की प्रथा के बारे में हम बखूबी जानते हैं। कानून और संविधान किसी के गुलाम नहीं। राज्य में में फिलहाल जो झमेला चल रहा है, उसकी चिंगारी हमरी ओर से नहीं छोड़ी गई है। जनता इस बात को जानती है। हालांकि, विवाद बढ़ने के बाद शनिवार को मुनगंटीवार ने कहा, मीडियाकर्मियों ने उनसे पूछा था कि अगर समय से सरकार का गठन नहीं होता तो क्या होगा? संविधान के प्रावधान के मद्देनजर मैंने कहा था कि राष्ट्रपति शासन लागू होगा। मानिए, अगर एक टीचर, छात्र के सवाल का जवाब देता है तो क्या उसे चेतावनी मानना चाहिये वहीं, शरद पवार से मुलाकात को लेकर राउत ने कहा, ''महाराष्ट्र में जो स्थितियां बन रही हैं। सभी दल एक-दूसरे से बात कर रहे हैं। सिवाय शिवसेना और भाजपा के।हालांकि, यह भी कहा कि शिवसेना ने गठबंधन में चुनाव लड़ा है और हम राजधर्म का धर्म निभाते हुए अंतिम सांस तक गठबंधन धर्म का पालन करेंगे।