पेनल्टी कम करने के बदले रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा गया इनकम टैक्स इंस्पेक्टर

राजेश कुशवाहा  के नाम दर्ज 20 मकानों की रजिस्ट्री के 10 लाख रुपए इनकम टैक्स की पैनल्टी के तौर पर निकाली गई थी. इस पैनल्टी को खत्म करने के लिए आरोपी इनकम टैक्स इंस्पेक्टर ने 2 लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी. रिश्वत की पहली किश्त के 20 हजार रुपए लेकर राजेश कुशवाह इनकम टैक्स दफ्तर पहुंचे यहां जैसे ही राजेश कुशवाहा ने महाधिहोम तत को रिश्वत दी, लोकायुक्त की टीम ने उसे गिरफ्तार कर लिया



इंदौर. मध्य प्रदेश लोकायुक्त की इंदौर की टीम ने शुक्रवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए एक इनकम टैक्स इंस्पेक्टर को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है. आरोपी का नाम महाधिहोम तत है, जिसे इनकम टैक्स दफ्तर में ही 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया गया है. आरोपी ने 2 लाख रूपयों की मांग की थी जिसकी पहली किश्त के रूप में शिकायतकर्ता ने 20 हज़ार रूपयों का भुगतान किया था और इसी दौरान आरोपी इनकम टैक्स अफसर को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया गया.लोकायुक्त डीएसपी प्रवीण सिंह बघेल के मुताबिक राजेश कुशवाहा की शिकायत और सबूतों के आधार पर टीम लगातार इनकम टैक्स ऑफिसर पर नजर बनाए हुई थी. सुनियोजित तरीके से उसे रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया है. ये रकम इंदौर निवासी राजेश कुशवाहा  के नाम दर्ज 20 मकानों की रजिस्ट्री के 10 लाख रुपए इनकम टैक्स की पैनल्टी के तौर पर निकाली गई थी. इस पैनल्टी को खत्म करने के लिए आरोपी इनकम टैक्स इंस्पेक्टर ने 2 लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी. रिश्वत की पहली किश्त के 20 हजार रुपए लेकर राजेश कुशवाह इनकम टैक्स दफ्तर पहुंचे थे, यहां जैसे ही राजेश कुशवाहा ने महाधिहोम तत को रिश्वत दी, लोकायुक्त की टीम ने उसे गिरफ्तार कर लिया.


Popular posts
महंगाई पर कांग्रेस का घमासान कांग्रेस जन राय पेट्रोल पंप पर एकत्रित हो-फुन्देलाल सिंह
Image
कलेक्टर अनूपपुर सुश्री सोनिया मीणा ने चचाई में ज्वाइन किया कलेक्टर का पदभार
Image
अनूपपुर में बढ़ा ब्लैक फंगस का कहर, पत्रकार रामचंद नायडू का अपोलो अस्पताल बिलासपुर में इलाज जारी
Image
बरगवां में दो दिवसीय वॉलीबॉल टूर्नामेंट का आयोजन शुरू रविवार को खेला जाएगा फाइनल मैच
Image
आखिर! भारत सरकार ‘‘एमएसपी पर कानून‘‘ बनाने से ‘‘कतरा‘‘ क्यों रही है? किसान आंदोलन! समस्या-समाधान! प्रलोभन अर्द्धसत्य व तर्क हीन तर्क!कब तक?