पूर्व चुनाव आयुक्त टीएन शेषन का निधन


भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है. इस लोकतंत्र को बनाए रखने में एक खास भूमिका निभाता है चुनाव आयोग. इसी चुनाव आयोग के 1990 में मुखिया रहे थे टीएन शेषन. जिनका 86 साल की उम्र में रविवार देर रात निधन हो गया. शेषन को चुनाव आयोग को शक्तिशाल बनाने के लिए पहचाना जाता है.। शेषन को उनके कड़े रुख और देश चुनावी व्यवस्था में सुधारों के लिए जाना जाता है। उन्होंने अपने कार्यकाल में तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव से लेकर उस समय के बिहार के मुख्यमंत्री रहे लालू प्रसाद यादव किसी को भी नहीं बख्शा।टी एन शेष पहले चुनाव आयुक्त थे जिन्होंने पहली बार बिहार में 4 चरणों में चुनाव करवाया था। और चारों बार चुनाव की तारीखें बदली गई थीं। यह बिहार के इतिहास का सबसे लंबा चुनाव था। शेषन देश के 10वें चुनाव आयुक्त बनने से पहले कई मंत्रालयों में तैनात रह चुके थे। अपने इस ईमानदार स्वभाव के चलते हमेशा राजनेताओं के निशाने पर रहने वाले शेषन से तमाम दलों के नेता खौफ खाते थे. उस समय में कहा जाता था कि नेता या तो भगवान से डरते हैं या फिर टीएन शेषन से. खुद शेषन को भी इस बात का इल्म था. इसलिए ही तो उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था, 'आई ईट पॉलिटीशियंस फॉर ब्रेकफास्ट,' मतलब, मैं 'नाश्ते में नेता' खाता हूं


 


Popular posts
हिंदी दिवस में हुआ भव्य आयोजन (महिलाओं के लिए किया गया हिंदी संवर्धन पर विशेष कार्यक्रम
Image
मंत्री बिसाहूलाल सिंह के प्रयासों से चोलना पड़ोर मार्ग में उच्च स्तरीय पुल निर्माण की मिली स्वीकृति
Image
रेलवे फ्लाईओवर ब्रिज निर्माण में हो रही देरी को लेकर पूर्व विधायक रामलाल रौतेल करेंगे अनिश्चितकालीन उपवास
Image
परासी - तितरीपोंडी,पसला- चरतरिया, धिरौल- पटना मार्ग निर्माण शीघ्र
Image
कोरोना अलर्ट/देश के नाम जारी सन्देश में PM का एलान रात 12 बजे के बाद पूरा भारत 21 दिन तक लॉकडाउन
Image