पूर्व चुनाव आयुक्त टीएन शेषन का निधन


भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है. इस लोकतंत्र को बनाए रखने में एक खास भूमिका निभाता है चुनाव आयोग. इसी चुनाव आयोग के 1990 में मुखिया रहे थे टीएन शेषन. जिनका 86 साल की उम्र में रविवार देर रात निधन हो गया. शेषन को चुनाव आयोग को शक्तिशाल बनाने के लिए पहचाना जाता है.। शेषन को उनके कड़े रुख और देश चुनावी व्यवस्था में सुधारों के लिए जाना जाता है। उन्होंने अपने कार्यकाल में तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव से लेकर उस समय के बिहार के मुख्यमंत्री रहे लालू प्रसाद यादव किसी को भी नहीं बख्शा।टी एन शेष पहले चुनाव आयुक्त थे जिन्होंने पहली बार बिहार में 4 चरणों में चुनाव करवाया था। और चारों बार चुनाव की तारीखें बदली गई थीं। यह बिहार के इतिहास का सबसे लंबा चुनाव था। शेषन देश के 10वें चुनाव आयुक्त बनने से पहले कई मंत्रालयों में तैनात रह चुके थे। अपने इस ईमानदार स्वभाव के चलते हमेशा राजनेताओं के निशाने पर रहने वाले शेषन से तमाम दलों के नेता खौफ खाते थे. उस समय में कहा जाता था कि नेता या तो भगवान से डरते हैं या फिर टीएन शेषन से. खुद शेषन को भी इस बात का इल्म था. इसलिए ही तो उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था, 'आई ईट पॉलिटीशियंस फॉर ब्रेकफास्ट,' मतलब, मैं 'नाश्ते में नेता' खाता हूं


 


Popular posts
समर कैंप के माध्यम से बच्चों के खेल की प्रतिभा के निखार लाने का उचित प्लेटफार्म है । पंकज जयसवाल
Image
अनुपपुर वालीबॉल टीम विजई रथ में सवार चैंपियनशिप प्रतियोगिता में अनूपपुर की पुरूष वर्ग की टीम ने दूसरे मैच में भी रतलाम को हराया
Image
गैर राजनीति वा चंदा रहित से ब्राम्हण बंधुओं में आई एकजुटता - पं. रामनारायण द्विवेदी
Image
आखिर हादसे के बाद ही सिस्टम की आँखे क्यों खुलती है ?
Image
जिले के वरिष्ठ पत्रकार के पिताश्री का निधन नेताओं एवं पत्रकारों ने दी शोक श्रद्धांजलि
Image