पूर्व चुनाव आयुक्त टीएन शेषन का निधन


भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है. इस लोकतंत्र को बनाए रखने में एक खास भूमिका निभाता है चुनाव आयोग. इसी चुनाव आयोग के 1990 में मुखिया रहे थे टीएन शेषन. जिनका 86 साल की उम्र में रविवार देर रात निधन हो गया. शेषन को चुनाव आयोग को शक्तिशाल बनाने के लिए पहचाना जाता है.। शेषन को उनके कड़े रुख और देश चुनावी व्यवस्था में सुधारों के लिए जाना जाता है। उन्होंने अपने कार्यकाल में तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव से लेकर उस समय के बिहार के मुख्यमंत्री रहे लालू प्रसाद यादव किसी को भी नहीं बख्शा।टी एन शेष पहले चुनाव आयुक्त थे जिन्होंने पहली बार बिहार में 4 चरणों में चुनाव करवाया था। और चारों बार चुनाव की तारीखें बदली गई थीं। यह बिहार के इतिहास का सबसे लंबा चुनाव था। शेषन देश के 10वें चुनाव आयुक्त बनने से पहले कई मंत्रालयों में तैनात रह चुके थे। अपने इस ईमानदार स्वभाव के चलते हमेशा राजनेताओं के निशाने पर रहने वाले शेषन से तमाम दलों के नेता खौफ खाते थे. उस समय में कहा जाता था कि नेता या तो भगवान से डरते हैं या फिर टीएन शेषन से. खुद शेषन को भी इस बात का इल्म था. इसलिए ही तो उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था, 'आई ईट पॉलिटीशियंस फॉर ब्रेकफास्ट,' मतलब, मैं 'नाश्ते में नेता' खाता हूं


 


Popular posts
आम जनता’’ के लिए बजट! परन्तु ‘‘आम’’ व्यक्ति गायब?
Image
कारगिल विजय दिवस: 18 हजार फीट की ऊंचाई, 527 जवान शहीद, तब फहरा था तिरंगा
शिक्षाविद गिजूभाई सम्मान 2023 राज्य स्तरीय सम्मान से सम्मानित हुए शिक्षक
Image
खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री बिसाहूलाल सिंह का 17 सितम्बर को होगा अनूपपुर आगमन 20 सितंबर तक रहेंगे अनूपपुर के प्रवास पर, गरीब कल्याण सप्ताह के कार्यक्रमों में होंगे शामिल  
Image
 धर्मस्व मंत्री श्री शर्मा ने गया जी के लिये रवाना की मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन ट्रेन
Image