भोपाल में CAA और NRC के खिलाफ नारेबाजी, इंटरनेट बंद


सीएए के स्थानों पर प्रदर्शन के मद्देनजर मध्य प्रदेश में भी ऐहतियातन राजधानी भोपाल समेत 40 से ज्यादा जिलों में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है। विरोध प्रदर्शनों को देखते हुए भोपाल में दो महीने के लिए निषेधाज्ञा लागू की गई है, इससे 5 या उससे ज्यादा लोग एक जगह एकत्र नहीं हो सकेंगे।धारा-144 दो महीने तक 18 फरवरी 2020 तक लागू रहेगी। 


भोपाल /मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल  में नमाज के बाद बुधवारा इलाके में मुस्लिम समाज के लोगों ने सीएए और एनआरसी के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। इस दौरान वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने भीड़ को कंट्रोल किया। यहां करीब 10 हजार की संख्या में लोग जमा हो गए थे।  यह बात भी सामने आ रही है कि  भोपाल के विभिन्न क्षेत्रों में मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। भोपाल नगर निगम के फायर स्टेशनों को अलर्ट पर रखा गया है। कुछ लोगों को मोबाइल कंपनियों की ओर से मैसेज मिले हैं, जिसमें संदेश दिया गया है कि 21 दिसंबर दोपहर 12 बजे तक मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद रहेगी। बताया जा रहा है कि भोपाल शहर काजी ने पहले ही प्रदर्शन न करने की बात कही थी, लेकिन उनकी समझाइश को दरकिनार कर लोग यहां जमा हो गए और नारेबाजी शुरू कर दी। सूचना मिलने के बाद कलेक्टर, नगर निगम आयुक्त और मुस्लिम नेता भी लोगों को समझाने के लिए वहां पहुंच गए हैं।भोपाल में NRC और CAA को लेकर प्रशासन अलर्ट हैं. पुराने भोपाल में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई गई है.इकबाल मैदान में इसे लेकर जारी प्रदर्शन शांतिपूर्ण रूप से संपन्न हो गया. संवेदनशील इलाकों में पुलिस गश्त कर रही है. निगरानी के लिए ड्रोन की भी मदद ली जा रही है. पुलिस ने अफवाहों पर ध्यान नहीं देने और आपत्तिजनक मैसेज सोशल मीडिया पर शेयर नहीं करने की हिदायत दी है. राजधानी के कुछ इलाकों में एहतियातन इंटरनेट सेवाएं अस्थायी रूप से रोकी गई हैं.सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा के बाद इसे जल्दी शुरू कर दिया जाएगा.


Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image