चार हजार की रिश्वत लेते चौकी प्रभारी और मुंशी को लोकायुक्त ने किया गिरफ्तार

 



सीधी। लोकायुक्त रीवा की टीम ने शुक्रवार सुबह करीब 10 बजे कुसमी थाना के पुलिस चौकी पोंड़ी में दबिश देकर चौकी प्रभारी और मुंशी को चार हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगेहाथ पकड़ लिया। चौकी प्रभारी ने कच्ची शराब पकड़े जाने के मामले में कार्रवाई न करने के एवज में रिश्वत मांगी थी। पुलिस अधीक्षक लोकायुक्त रीवा राजेंद्र वर्मा ने बताया कि चौकी प्रभारी व मुंशी को पकड़ा है। बयान लेने के बाद दोनों को मुचलके पर छोड़ दिया गया।शिकायतकर्ता छोटेलाल ने बताया कि तीन दिन पहले घर में पोंड़ी चौकी प्रभारी तरुण बेदी पुलिसकर्मियों के साथ आए और देशी शराब बनाने का आरोप लगाते हुए घर की तलाशी ली। तलाशी में कुछ भी न मिलने के बाद उसको लातों से पीटा। इसके बाद 10 हजार रुपए मांगे।एक हजार रुपये लेकर बाकि रकम  चौकी पर आकर देने काे कहा जानकारी के अनुसारकाफी मिन्नतों के  बाद में मामला पांच हजार में तय हुआ। बेदी ने एक हजार रुपए ले लिए और बाकी के 4 हजार चौकी आकर देने को कहा। लेकिन इसी बीच फरियादी ने  मामले की शिकायत लोकायुक्त से कर दी।जिसके बाद आज सुबह लोकायुक्त पुलिस टीम के कहने अनुसार उसके द्वारा 4 हजार रूपये पोड़ी चौकी पहुंचकर चौकी प्रभारी तरूण बेदी को देना चाहा लेकिन उनके द्वारा कुछ सोचकर उक्त रूपये मुंशी बाबूलाल रावत को देने को कहा। छोटेलाल पठारी ने जब रिश्वत मुंशी को दिया उसी दौरान लोकायुक्त पुलिस टीम ने घेराबंदी कर उन्हे दबोच लिया। तलाशी लेने के दौरान रिश्वत की राशि चार हजार रूपये मुंशी के पास मिली। चौकी प्रभारी ने जब मुंशी को रिश्वत की राशि देने को कहा था यह बात लोकायुक्त पुलिस टीम तक पहुंच जाने के कारण उन्हे भी गिरफ्तार कर लिया गया।


Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image