देश के मुसलमानों को नागरिकता संशोधन कानून से डरने की जरूरत नहीं: आध्यात्मिक प्रमुख दीवान

जयपुर। अजमेर दरगाह आध्यात्मिक प्रमुख दीवान सैयद जैनुल आबेदीन अली खान नागरिकता संशोधन कानून से उपजे विवाद पर कहा कि यह कानून किसी भी तरह से इस देश के मुसलामनों के विरुद्ध नहीं है और इस क़ानून से देश में रहने वाले किसी भी मुसलमान को डरने की ज़रूरत नहीं है, ना ही उन की नागरिकता को किसी भी प्रकार का ख़तरा है। 


    हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिशती दरगाह के के वंशज एवं वंशानुगत सज्जादानशीन खान ने एक बयान में कहा कि केन्द्र सरकार ने जिस नागरिकता संशोधन विधेयक को पारित कर उसे क़ानूनी अमलीजामा पहनाया है वो किसी भी तरह से इस देश के मुसलामनों के विरुद्ध नहीं है और इस क़ानून से भारत में रहने वाले किसी भी मुसलमान को डरने की ज़रूरत नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कहा, ''परंतु देश में इस कानून को लेकर उपजे विवाद को और देश के मुस्लिमों में फैलाए जा रहे डर और भ्रम को दूर करने की आवश्यकता है।''


     दरगाह दीवान ने जामिया मिल्लिया की घटना पर दुःख व्यक्त करते हुए  छात्रों से किसी भी स्थिति में क़ानून अपने हाथ में ना लेने की अपील की है।


Popular posts
राज्यपाल के कार्यक्रम में जनजाति समाज के लोगों के जीवन को खतरे में डालने कि इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्‍वविदयालय की साजिश .
Image
मध्य प्रदेश में सियासी हलचल तेज, मंत्री बिसाहूलाल सिंह को भोपाल लेजाने अचानक पंहुचा हेलीकॉप्टर
Image
जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी को 18 हजार रुपये की रिश्वत लेते लोकायुक्त ने किया गिरफ्तार
Image
महात्मा गांधी, एवं स्व. श्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर एक दिवसीय वालीबाल प्रतियोगिता का आयोजन, बरगवां यूथ ब्रिगेड रही विजेता
Image
टीका महा अभियान के तहत मेडियारास में हुआ सत प्रतिशत लक्ष्य
Image