गोदाम मेरा है मै चाहे जो करूं ,पीडीएस गोदाम को सेल्समैन ने दिया किराए से


अनूपपुर। जैतहरी जनपद अंतर्गत ग्राम पंचायत झाई ताल स्थित पीडीएस गोदाम के सेल्समैन महेंद्र कुमार सोनी द्वारा नियमों को ताक में रखते हुए शासकीय पीडीएस गोदाम को निर्माण सामग्री रखने के लिए किराए पर दे दिया गया है, जबकि यहां पर ग्रामीणों के हक का खाद्यान्न रखा हुआ है, ऐसे में सीमेंट की धूल से खाद्यान्न को नुकसान पहुंच रहा है, वहीं उनकी गुणवत्ता पर भी असर पड़ रहा है। जहां उस खाद्यान को ग्रामीणों को लेने के लिए मजबूर है। 
गोदाम मेरा है मै चाहे जो करूं


ग्रामीणो के द्वारा पीडीएस गोदाम को किराए पर दिए जाने की जानकारी के बाद इस मामले में जब हमारे प्रतिनिधि ने बात की तो सेल्समैन महेंद्र सोनी ने कहा कि यह मेरा गोदाम है, मेरी जो मर्जी आएगी वही मैं करूंगा किसी को भी किराए से दूं या किसी को रहने को दूं।  सेल्समैन ने कहा कि मेरे द्वारा खाद्यान्न की सुरक्षा को देखते हुए किया गया है, यहां से खाद्यान आए दिन चोरी होता था। पीडीएस गोदाम की चाबी किसी अन्य व्यक्ति को देने से खाद्यान्न की सुरक्षा होती है।


कौन है जिम्मेदार
जबकि पीडीएस गोदाम शासन की संपत्ति है, किसी निजी व्यक्ति या ठेकेदार को निर्माण सामग्री रखने के लिए फिर कैसे दिया जा सकता है। ठेकेदार ने निर्माण सामग्री रखी है कल उसके कर्मचारी गोदाम को अपने रहने का हॉस्टल बनाएगे और वहां किसी प्रकार की तोडफोड़ हुई तो उसका जिम्मेदार कौन होगा। बहरहाल यह बात सेल्समैन और उसके विभाग को देखना होगा, लेकिन यहां आमजन को मिलने वाले खाद्यान में जा रही सीमेंट की धूल का सवाल है,जिससे उसे खाने वालो के स्वास्थ पर प्रतिकूल प्रभाव पडेगा।
इनका कहना है
यदि सेल्समैन के द्वारा किसी को कुछ सामग्री रखने के लिए किसी अन्य व्यक्ति को दिया गया है तो गलत है। इसकी जानकारी लेकर मैं तुरंत सेल्समैन के खिलाफ  कार्रवाई करूंगा।
संदीप गुप्ता, प्रबंधक सहकारी समिति मर्यादित, जैतहरी


 


Popular posts
18 मई को दद्दाजी की प्रथम पुण्यतिथि में शिष्य मंडल जरूरतमंद स्थानों पर भोजन पैकेट का वितरण करेगा
Image
जिले के बिजुरी, कोतमा एवं बरगवां (अमलाई) के नगरीय निकाय निर्वाचन कार्यक्रम राज्य निर्वाचन आयोग ने किए घोषित
परिवारवाद’’,’’वंशवाद’’,’’भाई-भतीजावाद-चाचा-भतीजावाद’’ ’’अधिनायकवाद’’ एवं ’’जातिवाद’’! *लोकतंत्र के लिए खतरनाक? कैसे! कब! और क्यों? निदान!
Image
तुलसी रानी पटेल को मिला डॉक्टर आफ फिलासफी (पीएचडी)की उपाधि
Image
आखिर! माननीय ‘‘न्यायालय’’ ‘‘स्वयं की अवमानना‘‘ में क्यों लगा हुआ है?