कॉस्टिक सोड़ा फैक्ट्री में हाई बोल्टेज करंट की चपेट में आने से चार मजदूर झुलसे

ओरिएन्ट पेपर मिल कॉस्टिक सोड़ा यूनिट में ३० दिसम्बर की दोपहर लगभग ४ बजे इलेक्ट्रिक आइरिकेशन गेट में वेल्डिंग का कार्य कर रहे चार मजदूर अचानक फैक्ट्री के प्राइवेट रेल लाइन के ऊपर गई हैवी इलेक्ट्रिक लाइन की चपेट में आकर बुरी तरह झुलस गए। जहां फैक्ट्री के प्रबंधक द्वारा आनन-फानन में चारो घायलो को उपचार के लिए तत्काल ही जिला चिकित्सालय शहडोल में उपचार हेतु भर्ती कराया गया।



अमलाई,अनूपपुर। चचाई थाना क्षेत्र अंतर्गत अमलाई में संचालित ओरिएन्ट पेपर मिल कॉस्टिक सोड़ा यूनिट में ३० दिसम्बर की दोपहर लगभग ४ बजे इलेक्ट्रिक आइरिकेशन गेट में वेल्डिंग का कार्य कर रहे चार मजदूर अचानक फैक्ट्री के प्राइवेट रेल लाइन के ऊपर गई हैवी इलेक्ट्रिक लाइन की चपेट में आकर बुरी तरह झुलस गए। जहां फैक्ट्री के प्रबंधक द्वारा आनन-फानन में चारो घायलो को उपचार के लिए तत्काल ही जिला चिकित्सालय शहडोल में उपचार हेतु भर्ती कराया गया।  वहीं घायल मजदूरों में कमल सिंह गोड़ पिता झुन्ना सिंह गोड़ उम्र ४५ वर्ष निवासी मलैया थाना बुढ़ार, समरेन्द्र सिंह पिता मनी प्रताप सिंह उम्र ५५ वर्ष निवासी ईट्टा भट्टा थाना अमलाई, नागेश्वर प्रसाद दुबे पिता बनमानी प्रसाद उम्र ५० वर्ष निवासी सोड़ा फैक्ट्री एवं श्यामकरण विश्वकर्मा पिता छोटेलाल विश्वकर्मा उम्र ५० वर्ष निवासी बकहो थाना अमलाई है। मामले की जानकारी के अनुसार कॉस्टिक सोड़ा यूनिट के इलेक्ट्रिक आइरिकेशन गेट के पास बने ओव्हर हाइट रेलिंग के टूट जाने पर कंपनी के प्रबंधन द्वारा बिना सुरक्षा उपकरण के चारो मजदूरो को कार्य पर लगाया। जहां मजदूरों ने लोहे की सीढ़ी पर चढक़र ओव्हर हाईट रेलिंग में बिल्डिंग का कार्य कर रहे थे, इस दौरान रेल की हैवी इलेक्ट्रिक लाइन की चपेट में आ गए। कार्य के दौरान मैकेनिकल एवं इलेक्ट्रिकल विभाग के इंचार्ज कार्य स्थल पर मौजूद नही थे। जानकारी के अनुसार फैक्टरी के लाइनमैन, इंजीनियर रेल के चालू हैवी इलेक्ट्रिक लाइन पर मजदूरों को कार्य करने भेज दिया गया। जो प्रबंधन की लापरवाही उजागर करती है।