माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय भोपाल के बाहर धरने पर बैठीं छात्राओं से मिलने पहुंची भोपाल सांसद प्रज्ञा साध्वी का NSUI ने किया बिरोध

मध्य प्रदेश  की राजधानी भोपाल में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय  एक बार फिर विवादों में 




भोपाल. मास्टर ऑफ मास कम्यूनिकेशन के तीसरे सेमेस्टर की दो छात्राएं मनु शर्मा और श्रेया पांडे मंगलवार रात करीब 8 बजे माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय के मेन गेट के सामने अचानक धरने पर बैठ गईं. उनका आरोप है कि कक्षा में कम उपस्थिति बताकर उन्हें तीसरे सेमेस्टर की परीक्षाएं देने से वंचित कर दिया गया है. धरने पर बैठी छात्राओं की मांग है कि उन्हें परीक्षा में बैठने की अनुमति दी जाए और एचओडी के खिलाफ कार्रवाई हो. इन्हीं छात्राओं से मिलने की खातिर भोपाल की संसद साध्वी प्रज्ञा यहां पहुंची थीं।पर कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई ने साध्वी का विरोध किया ,और यूनिवर्सिटी के मेन गेट पर तनाव की स्थिति बन गई, भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर और NSUI आमने-सामने आ गए. इस दौरान दोनों तरफ से जमकर नारेबाजी हुई.यूनिवर्सिटी के सामने डेढ़ घंटे तक प्रज्ञा ठाकुर और NSUI के कार्यकर्ता आमने-सामने खड़े रहे हैं, लेकिन मौके पर मौजूद पुलिस अधिकारी और अमला मूक दर्शक बनकर सब कुछ देखता रहा. जब विवाद बढ़ने लगा, तो प्रज्ञा ठाकुर राज्यपाल से मिलकर पूरे मामले की शिकायत करने की बात कहकर वहां से रवाना हो गईं.,सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि "मैं छात्राओं के समर्थन में खड़ी हूं यूनिवर्सिटी में देशद्रोही और गुंडे नारेबाजी कर रहे हैं, लेकिन उन्हें रोकने वाला कोई नहीं है. जब तक यह गुंडे यहां से नहीं जाएंगे तब तक मैं यहीं खड़ी रहूंगी प्रज्ञा ने NSUI के कार्यकर्ताओं से छात्राओं की सुरक्षा को खतरा बताया है वहीं  NSUI ने कहा कि "महात्मा गांधी के विरोधी, गोडसे के समर्थक और आतंकवादी घटनाओं में शामिल हो, ऐसी विचारधारा के लोगों को यूनिवर्सिटी का माहौल खराब नहीं करने देंगे. हम उन्हें परिसर में नहीं जाने देंगे."


Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image