सृष्टि वेयर इंडस्ट्रीज लिमिटेड कंपनी के संचालक की अग्रिम जमानत याचिका खारिज 

अनूपपुर।  न्यायालय विशेष न्यायाधीश जिला एवं सत्र न्यायाधीश डॉ. सुभाष कुमार जैन के न्यायालय के द्वारा विशेष प्रकरण क्रमांक 05/19, थाना कोतवाली का अपराध क्रमांक 167/16 के फरार आरोपी एस.एल. फ्रांसिस क्रिश्चयन अस्पताल कैंपस जिला शहडोल द्वारा अपने गिरफ्तारी से बचने के लिए लगाए गए अग्रिम जमानत के आवेदन की सुनवाई करते हुए न्यायालय ने जमानत आवेदन को खारिज कर दिया है। आरोपी ने न्यायालय में इस आधार पर अग्रिम जमानत का आवेदन लगाया था कि थाना कोतवाली अनूपपुर द्वारा उसे फर्जी तरीके से मामले में फंसाया गया है। आरोपी का नाम प्रथम सूचना रिपोर्ट में नहीं था विवेचना के दौरान षड्यंत्रपूर्वक उसका नाम मामले में संलिप्त किया गया है उसके द्वारा किसी भी प्रकार से आम जनता को धोखा देकर उनके राशि का गबन नहीं किया गया है। वह किसी भी प्रकार से अवैध बैंकिंग कार्य में संलग्न नहीं था। राज्य द्वारा विशेष लोक अभियोजक एवं जिला अभियोजन अधिकारी रामनेरश गिरि द्वारा इस आधार पर जमानत आवेदन का विरोध किया गया कि आरोपी प्रकरण में शुरू से फरार है और विवेचना में सहयोग नहीं कर रहा है। प्रकरण के अन्य आरोपीगण जेल में निरूद्ध हैं तथा उनकी जमानत याचिका न्यायालय द्वारा खारिज कर दी गई है। उक्त तर्को से संतुष्ट होकर न्यायालय ने आरोपी द्वारा प्रस्तुत अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी है। मामले की संक्षिप्त जानकारी देते हुए मीडिया प्रभारी राकेश कुमार पांडेय ने बताया कि आरोपी पर आरोप है कि उसने सह अभियुक्त के साथ मिलकर स्वयं को सृष्टि वेयर इंडस्ट्रीज (बैंक) का डॉयरेक्टर बताते हुए पॉलिसी की राशि को दोगुना करने का लालच देकर कपट पूर्वक व बेईमानी से हितग्राहीगण से राशि प्राप्त कर छल कारित किया। वर्ष 2014 में यह बैंक न्यायालय के निकट खोली गई थी, जिसके द्वारा अनूपपुर के भोले-भाले ग्रामीण क्षेत्र के हितग्राहियों के साथ ही अधिकतर रिटायरमेंट वृद्धजनों के रिटायरी के रकम को दुगना-तिगुना ब्याज दर की लालच देकर कुल तीन करोड़ दस लाख उनसठ हजार तीन सौ एक रकम को हड़प कर उक्त कंपनी बंद कर दी गई थी। 


Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image