वार्षिक परेड का आईजी ने किया निरीक्षण

साप्ताहिक अवकाश को लागू करने दिए निर्देश 



अनूपपुर। पुलिस लाइन अनूपपुर बार्षिक परेड का शहडोल रेंज आईजी एसपी सिंह ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक राजन के साथ सुबह ९ बजे निरीक्षण किया, परेड का मार्च पास्ट की सलामी लेने के साथ जवानों के टर्न आउट का निरीक्षण किया। साथ ही जिले के समस्त वाहनों व बलवाईयों के विरूद्ध उपयोग आने वाले अस्त्र-शस्त्र व संसाधनों का निरीक्षण किया। ब्रज वाहन से आंसु गैस के गोल दागने तथा उनकी क्षमताओं का निरीक्षण कर आंकलन किया। लगभग घंटाभर चले परेड सहित अन्य पुलिस कार्रवाई पर अधिकारियों से चर्चा भी की। इसके बाद दरबार आयोजित कर पुलिस अधिकारी व कर्मचारियों की समस्याओं को भी सुना। पुलिस दरबार में कर्मचारियों ने जीपीएफ, टीए(यात्रा भत्ता) आईकार्ड, पुलिस कॉलोनी में पानी की समस्या, कॉलोनी की सुरक्षा व्यवस्था, अवकाश सहित अन्य मुद्दों पर आईजी को अवगत कराया, जहां आईजी ने तत्काल कर्मचारियों से सम्बंधित समस्याओं का निराकरण कराने के निर्देश दिए। साथ ही निराकृत करने वाले अधिकारियों से उनके द्वारा दिए गए समयावधि में ही कार्य पूर्ण करने की चेतावनी दी। वहीं दरबार में कर्मचारियों व अधिकारियों ने अन्य जिलों की तर्ज पर अनूपपुर जिले में भी साप्ताहिक अवकाश दिलाए जाने की मांग रखी। जिसपर आईजी ने तत्काल ही अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक राजन से आज से ही अवकाश दिलाए जाने के निर्देश जारी करते हुए इसकी घोषणा की। इस मामले में आईजी ने महिला पुलिसकर्मी को साप्ताहिक अवकाश भेजकर इसकी शुरूआत की। कार्यक्रम के दौरान आईजी ने महिला पुलिस कर्मचारियों द्वारा परेड में कमी पाए जाने, हथियार उठाने में असमर्थता पाए जाने की बात कही। पुलिस अधिकारी व कर्मचारियों को नियमित फिटनेस सम्बंधित व्यायाम करने, महिलाओं को नियमित परेड का हिस्सा बनाने तथा कम्प्यूटर ट्रेनिंग देकर प्रशिक्षित करने के निर्देश दिए। वहीं आईजी ने जिले के समस्त थाना प्रभारियों से उनके कामकाज की सराहना करते हुए कम बल में भी बेहतर कार्य करने की बात कही। इसके बाद एसडीओपी कार्यालय अनूपपुर का निरीक्षण किया, जहां  वीरान में संचालित हो रहे कार्यालय को पुन: अपने पूर्व कार्यालय में स्थानांतरित करने के निर्देश दिए। फुनगा चौकी प्रभारी द्वारा चौकी में कार्रवाई से सम्बंधित दस्तावेजों के चौकी में पदस्थ किसी आरक्षक द्वारा छेड़छाड़ करने की शिकायत पर आईजी ने गम्भीर मामला बताते हुए सम्बंधित आरक्षक को तत्काल लाइन अटैच के निर्देश दिए। 


Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image