ग्‍वालियर सेंट्रल जेल में पास्को के आरोपित ने लगाई फांसी

घटना की प्राथमिक  जांच में निगरानी में तैनात मुख्य प्रहरी ओमप्रकाश सुमन सहित तीन प्रहरियों को निलंबित कर दिया है और मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दे दिये गए हैं



ग्वालियर/शहर की सेंट्रल जेल में  गणतंत्र दिवस की शाम  को दुष्कर्म व पास्को एक्ट के मामले में न्यायिक हिरासत में निरूद्ध विचाराधीन बंदी नरोत्तम रावत ने तौलिया की रस्सी बनाकर  फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। 2 दिन पहले ही युवक को बालिग होने पर बाल सुधार गृह से सेंट्रल जेल में शिफ्ट किया गया था। युवक का नाम नरोत्तम रावत है और वह ग्वालियर जिले के ईंटमा गांव का निवासी है।शुरूआती जांच में बैरक नंबर-9 की निगरानी के लिए तैनात मुख्य प्रहरी ओमप्रकाश सुमन सहित तीन प्रहरियों को निलंबित कर दिया है। बंदी की मौत का वास्तविक कारण पता लगाने के लिए मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिये हैं।1 जनवरी को युवक नरोत्तम रावत पर करहिया थाना पुलिस ने पाक्सो एक्ट के तहत नाबालिग के साथ दुष्कर्म और अपहरण का केस दर्ज किया था। 2 दिन बाद 3 जनवरी को आरोपी खुद थाने में हाजिर हो गया था। चूंकि वह नाबालिग था, इसलिए उसे बाल सुधार गृह भेज दिया गया था। बालिग होने पर शुक्रवार को उसे बाल सुधार गृह से सेंट्रल जेल शिफ्ट किया गया था। 


Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image