विवादों के बीच  महापौर ने किया रानी कमलापति की प्रतिमा का अनावरण,

भोपाल के महापौर आलोक शर्मा ने अपनी पर अपनी परिषद का कार्यकाल खत्म होने के पहले श्रेय लेने की होड़ में प्रतिमा का अनावरण कर दिया, नहीं पहुंचे कोई भी मंत्री.  



भोपाल/ राजधानी के किलोल पार्क क्षेत्र में छोटे तालाब के पास कमलापति महल के सामने गोंड रानी कमलापति की प्रतिमा का अनावरण हो गया. प्रतिमा अनावरण करने को लेकर मचे विवाद के बीच भोपाल महापौर आलोक शर्मा और बीजेपी विधायकों की मौजूदगी में प्रतिमा का अनावरण किया गया. 3 करोड़ की लागत से तैयार गोंड रानी कमलापति के इतिहास को दिखाने के लिए प्रतिमा को लगाया गया है भोपाल महापौर का कहना है कि  उन्होंने जिला प्रभारी मंत्री गोविंद सिंह की अनुमति और दूसरे मंत्रियों की मंजूरी के बाद ही कार्यक्रम रखा था. लेकिन कोई मंत्री आयोजन में शामिल नहीं हुए.जिसके कारण भोपाल नगर निगम महापौर होने के नाते उन्होंने प्रतिमा का अनावरण कर दिया. अनावरण पट्टिका में मुख्य अतिथि के तौर पर मंत्री गोविंद सिंह, मंत्री आरिफ अकील, मंत्री जयवर्धन सिंह समेत स्थानीय पार्षदों के नाम भी डाले गए हैं.  हालांकी इस पूरे मामले पूरे आयोजन के दौरान स्थानीय कांग्रेसी पार्षद शबिस्ता जकी ने कार्यकर्ताओं के साथ आयोजन स्थल के बाहर धरना दिया. कांग्रेस पार्षद का आरोप है कि बिना अनुमति के भोपाल महापौर ने आयोजन कर दिया. इसकी किसी तरह की अनुमति जारी नहीं हुई थी लेकिन अपने परिषद का कार्यकाल खत्म होने से पहले आवरण का श्रेय लेने की होड़ में भोपाल महापौर ने ऐसा किया. इस दौरान कांग्रेस पार्षद ने आर्च ब्रिज की एप्रोच रोड बनाए जाने का भी विरोध जताया, कार्यक्रम में प्रशासन का सहयोग नहीं मिलने से नाराज महापौर मिंटोहाल स्थित गांधी प्रतिमा के सामने धरना देने पहुंच गए। जिले के प्रभारी मंत्री गोविंद सिंह ने कहा है कि इस कार्यक्रम की मंजूरी नहीं ली गई थी। पूरा कार्यक्रम अनाधिकृत रूप से हुआ है। अनावरण कार्यक्रम की खास बात ये थी कि इसमें कांग्रेस पार्षद गिरीश शर्मा पूरे समय मौजूद रहे। 



17000 किलो की 32 फिट ऊँची है प्रतिमा
राजधानी के छोटे तालाब पर आर्च ब्रिज पर स्थापित होने वाली रानी कमलापति की प्रतिमा लगाई गई है. प्रतिमा का प्लेटफार्म वहां बनाया गया है जहां रानी ने जल समाधि ले ली थी. 2011 में बड़े तालाब पर राजा भोज की प्रतिमा के बाद अब रानी कमलापति की स्थापना का उद्देश्य भोपाल का नवाब काल से पहले के इतिहास से लोगों को रूबरू कराना है. 17000 किलो की 32 फीट ऊंची प्रतिमा में 60 प्रतिशत तांबा, 20 प्रतिशत जस्ता, 10 प्रतिशत टीन, 5 प्रतिशत लैड और 5 प्रतिशत अन्य मैटल हैं. इसके निर्माण पर 1 करोड़ 96 लाख रुपये की लागत आई है.


Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image