कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग ने मध्यप्रदेश विधानसभा से दिया इस्तीफा

न मैं कमलनाथ गुट का हूं, न दिग्विजय सिंह और न ही सिंधिया गुट का हूं। मैं सिर्फ कांग्रेस का कार्यकर्ता हूं। इसलिए मुझे परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।दलाल और भ्रष्टाचारी सरकार में बैठे हैं, मेरी लगातार उपेक्षा की जा रही है-डंग



मध्य प्रदेश के मंदसौर से कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग ने विधानसभा से इस्तीफा देने की पेशकश की है। उनके इस इस्तीफ से कमलनाथ सरकार मुश्किल में आ गई है। कहा जा रहा है कि हरदीप सिंह डंग के अलावा और भी विधायक इस्तीफा दे सकते हैं
भोपाल: मध्यप्रदेश के चार लापता कांग्रेस विधायकों में से एक हरदीप सिंह डंग ने विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति को अपना इस्तीफा भेज दिया है. पत्र में हरदीप डंग ने कहा कि दूसरी बार लोगों का जनादेश मिलने के बावजूद पार्टी द्वारा उनकी लगातार अनदेखी की जा रही है. उन्होंने अपने पत्र में कहा कि 'कोई भी मंत्री काम करने के लिए तैयार नहीं है,मध्यप्रदेश के सियासी ड्रामे में अब नया मोड़ आ गया है. सुवासरा से कांग्रेस विधायक हरदीप डंग ने इस्तीफा दे दिया है. वहीं पिछले दो दिनों से गायब विधायकों ने कांग्रेस के बीजेपी पर विधायकों को अगवा करके बंधक बनाए जाने के आरोपों को खारिज कर दिया है.कांग्रेस विधायक हरदीप डंग ने अपना इस्तीफा विधानसभा सचिवालय और मुख्यमंत्री को सौंप दिया है. हरदीप सिंह डंग कमलनाथ सरकार के शपथग्रहण में भी शामिल नहीं हुए थे. वो लगातार पार्टी लाइन से हटकर बयान देने की वजह से सुर्खियों में रहते थे. उन्होंने कश्मीर से धारा 370 हटाने और CAA का भी समर्थन किया था.बाकी तीन विधायक भी वापस नहीं लौटे हैं. ऐसे में मध्यप्रदेश विधानसभा में कांग्रेस के पास 113 विधायक बचे हैं, बीजेपी के पास 107 एमएलए हैं. 230 सदस्यों वाली विधानसभा में फिलहाल दो सदस्यों के निधन से संख्या 228 है. इसमें कांग्रेस को दो बसपा, एक सपा और चार निर्दलीय विधायकों  का समर्थन हासिल है, लेकिन एक निर्दलीय भी गायब है.इस मुसीबत के अलावा एक और मुसीबत सरकार को समर्थन दे रहे तीन विधायकों के बयान हैं. बसपा की विधायक रामबाई का कहना है कि- ''मेरा दिल्ली जाने का कार्यक्रम पहले से ही तय था. मेरी बेटी ने फ्लाइट का टिकट बुक कराया था. दिग्विजय का भूपेंद्र सिंह के साथ जाने का आरोप गलत है. किसी ने मुझे हाथ तक नहीं लगाया और कहा जा रहा है कि मारपीट की गई. ना भाजपा और ना ही कांग्रेस में इतनी हिम्मत है कि मुझे हाथ लगा सके. भाजपा पर लगाए  जा रहे खरीद-फरोख्त के सभी आरोप गलत हैं


 


Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image