कोरोना अलर्ट/देश के नाम जारी सन्देश में PM का एलान रात 12 बजे के बाद पूरा भारत 21 दिन तक लॉकडाउन

कोरोना मतलब 'को- कोई, रो- रोड पर, ना- ना निकले', पीएम मोदी ने दिया फार्मूला, देशभर में लॉकडाउन ने आपके घर के दरवाजे पर लक्ष्मण रेखा खींच दी है



देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  देश के नाम जारी सन्देश में ऐलान किया कि आज रात 12 बजे से पूरे देश में लॉकडाउन होने जा रहा है। हिंदुस्तान को बचाने के लिए बस यही एक रास्ता है। पीएम ने कहा कि आज रात से घरों से निकलने पर पूरी तरह से पाबंदी लगाई जा रही है। पीएम ने कहा कि ये एक तरह से कर्प्यू ही है। पीएम ने कहा कि ये जनता कर्फ्यू से भी बड़ा कर्फ्यू है।PM मोदी ने कहा कि अगले 21 दिनो तक ये लॉकडाउन रहेगा। पीएम ने कहा कि जो लोग जहां भी हैं वो वहीं रहे। कोरोना के साइकिल को तोड़ने के लिए 21 दिनों की जरूरत है। अगर ये 21 दिन नहीं सभंले तो कई परिवार हमेशा हमेशा के लिए खत्म हो जाएंंगे।पीएम ने कहा कि घर में रहें, घर में रहें और एक ही काम करें कि अपने घर में रहें। आज के फैसले ने, देशव्यापी लॉकडाउन ने आपके घर के दरवाजे पर एक लक्ष्मण रेखा खींच दी है। आपको ये याद रखना है कि कई बार कोरोना से संक्रमित व्यक्ति शुरुआत में बिल्कुल स्वस्थ लगता है, वो संक्रमित है इसका पता ही नहीं चलता। इसलिए ऐहतियात बरतिए, अपने घरों में रहिए। पीएम ने आगे कहा कि सोचिए, पहले एक लाख लोग संक्रमित होने में 67 दिन लगे और फिर इसे 2 लाख लोगों तक पहुंचने में सिर्फ 11 दिन लगे। ये और भी भयावह है कि दो लाख संक्रमित लोगों से तीन लाख लोगों तक ये बीमारी पहुंचने में सिर्फ चार दिन लगे। यही वजह है कि चीन, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, स्पेन, इटली-ईरान जैसे देशों में जब कोरोना वायरस ने फैलना शुरू किया, तो हालात बेकाबू हो गए।पीएम ने कहा कि विश्वभर में कोरोना इतना तेजी से फैल रहा है कि तमाम तैयारी के बाद भी वायरस पर काबू नहीं पाया जा रहा है। कई देशों में चुनौति बढ़ती जा रही है। इस महामारी से प्रभावी मुकाबले के लिए सोशल डिस्टेंसिंग ही एक मात्र एक रास्ता है। पीएम ने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग प्रधानमंत्री तक के लिए है। लेकिन कुछ लोगों की लापरवाही पूरे देश को बहुत बड़ी मुश्किल में डाल देगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि अगल लोगों की लापरवाही जारी रही तो देश बहुत बड़ी मुसीबत में फंस जाएगा। पीएम ने कहा कि राज्य सरकारों के फैसले को हल्के में ना लें।


 


 


 


 


Popular posts
परिवारवाद’’,’’वंशवाद’’,’’भाई-भतीजावाद-चाचा-भतीजावाद’’ ’’अधिनायकवाद’’ एवं ’’जातिवाद’’! *लोकतंत्र के लिए खतरनाक? कैसे! कब! और क्यों? निदान!
Image
18 मई को दद्दाजी की प्रथम पुण्यतिथि में शिष्य मंडल जरूरतमंद स्थानों पर भोजन पैकेट का वितरण करेगा
Image
मिलावटखोरों पर कहर , अफसरों को मंत्री के निर्देश, रासुका  की तयारी 
Image
लॉकडाउन के दौरान अनुपपुर में शराब के लिए महुआ का  परिवहन  जोरो पर, धारा 144 का उलंघन
Image
गुना में तीन पुलिसकर्मियों की हत्या से सनसनी, काले हिरण के शिकारियों ने रात में मारी गोली
Image