कोरोना से जारी जंग में समाज के हीरो कर रहे हैं हर चुनौती का सामना,

कोरोना से जारीजारी जंग में शासन, प्रशासन, डॉक्टर,स्वास्थकर्मी, सफाई कर्मी, प्रिंट मीडिया से लेकर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकार कोरोना वायरस के खौफ के माहौल में भी अपनी डियूटी निभा कर हर चुनौती का सामना रहे हैं।समाज के इन सभी सिपाहियों को नमन l


 



चैतन्य मिश्रा :-
अनूपपुर । विश्वभर में पैर पसार चुकी  कोरोना एक वैश्विक महामारी है, जिसकी चपेट में पूरी दुनिया है,भारत में भी मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं, भारत में कोरोना दूसरे चरण में है इसकी बढ़ती स्पीड को देखते हुए  देश  में 21 दिन का लॉकडाउन घोषित किया गया है,भारत में स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार कोरोना वायरस से 19 लोगों की मौत हो गई है। वहीं संक्रमितों की संख्या 873 हो गई है। इनमें से 775 लोगों का इलाज जारी है। 78 लोग ठीक हो गए हैं। बता दें कि पिछले 24 घंटे में 149 नए मामले सामने आए हैं।वही मध्यप्रदेश; कुल संक्रमित- 28 है जिसमे  जबलपुर में 8, इंदौर में 15, भोपाल में 3, शिवपुरी में 2, ग्वालियर में एक पॉजिटिव हैं।ऐसी बिसम परिस्थितियों में कोरोना से जारी है ,जारी जंग में शासन, प्रशासन, डॉक्टर,स्वास्थकर्मी, सफाई कर्मी, प्रिंट मीडिया से लेकर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकार कोरोना वायरस के खौफ के माहौल में भी अपनी डियूटी निभा कर हर चुनौती का सामना रहे हैं। जहां एक तरफ लॉक डाउन के चलते देश की जनता अपने आपको घरों मे सुरक्षित रखे हुए है वहीं पत्रकार सडकों पर घूम रहे हैं लोगों के बीच जाकर उनकी परेशानी तथा समस्याओं को अपने समाचार पत्र या चैनलों के माध्यम शासन प्रशासन तक पहुंचा रहे है। इतना ही नहीं कुछ पत्रकार साथी कोरोना से पीड़ित लोगों की मदद कर उन्हे अस्पताल पहुँचाने में मदद कर रहे हैं तो कुछ साथी ज़रूरतमंदों को खाने के पैकेट उपलब्ध कराने मे मदद कर रहे हैं। जबकि कई पत्रकार साथी को खुद मदद की दरकार है। पर वह अपनी खुद की समस्या को छोड़ कोरोना संकट से जूझ रहे देश,प्रदेश और शहर में अपने फर्ज को अंजाम दे रहे हैं। इसके अलावा प्रेस संस्थानों में जो अन्य स्टाफ है वह भी कर्फ्यू के बावजूद अपने कर्तव्य पथ पर डटकर ,कोरोना वायरस से बेखौफ़ होकर अपनी डियूटी निभा रहे हैं। आज सरकार हर वर्ग की सहायता के लिए कुछ न कुछ घोषणाए कर रही है तो इस वर्ग के बारे में भी विचार करें। कोरोना के खिलाफ जारी जंग में शासन प्रशासन के साथ साथ चौथे स्तंभ के इन सभी सिपाहियों को नमन है ।


 


 





Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image