शह मात के बीच लापता विधायक बिसाहूलाल का हो सकता है आज भोपाल आगमन, कमलनाथ जल्द कर सकते हैं मंत्रिमंडल विस्तार 

आदिवासी नेता बिसाहूलाल सिंह मंत्रिमंडल विस्तार हो सकते है शामिल 



भोपाल /मध्य प्रदेश में सियासी ड्रामे के बीच संकट से उबरने के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ मंत्रिमंडल विस्तार का फाॅर्मूला ला सकते हैं।डंग के इस्तीफे के बाद राज्य में सत्तारूढ़ दल कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के बीच बैठकों का दौर मुख्यमंत्री निवास पर देर रात तक चला। मौजूदा हालातों में पूरी कमान कमलनाथ और दिग्विजय सिंह ने अपने हाथ में ले ली है। जहा मुख्यमंत्री निवास रणनीति का केंद्र है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, गुलामनबी आजाद और कपिल सिब्बल उन्हें मदद कर रहे हैं।इसके चलते कमलनाथ सरकार जल्द ही अपने मंत्रिमंडल का विस्तार कर सकती है।साथ ही तीनो लापता विधायक भी आज राजधानी पहुंच सकते है  जिनमे बिसाहूलाल और के पी सिंह को मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है ,बीजेपी के विधायक शरद कौल ,नारायण त्रिपाठी मुख्यमंत्री कमलनाथ से मुलाकात के बाद ये कयास लगाए जा रहे है की दोनों  विधायक शुक्रवार को कांग्रेस में शामिलहो सकते है कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को कहा कि सरकार पूरी तरह से सुरक्षित है और वह पूरे पांच साल चलेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद से भाजपा लगाकर दावा कर रही है कि यह सरकार नहीं चलने वाली लेकिन पिछले चौदह माह से सरकार चल रही है। उन्होंने कहा कि सरकार को कोई संकट नहीं है और मुख्यमंत्री कमलनाथ के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार अपने पांच वर्ष पूरे करेगी।मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल का विस्तार होना चाहिए, लेकिन विधानसभा के बजट सत्र के बाद। उन्होंने कहा कि भाजपा नेताओं ने अपने कार्यकाल के दौरान ई टेंडरिंग और अन्य कई घोटाले किए। अब इन पर कार्रवाई प्रारंभ हुई है। इसलिए भाजपा नेता डरे हुए हैं और वे सरकार को अस्थिर करने का प्रयास कर रहे हैं। कांग्रेस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री कमलनाथ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता केपी सिंह, आदिवासी नेता बिसाहूलाल सिंह और सुमावली के विधायक ऐदल सिंह कंसाना को मंत्रिमंडल में शामिल कर सकते है क्योंकि ये दिग्विजय सरकार में भी मंत्रिमंडल में रहे थे।


Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image