थाना प्रभारी ने दिखाई मानवता, प्रवासी मजदूरों को गृह स्थान पहुचाने हेतु की व्यवस्था

अनुराग त्रिपाठी :-


शहडोल /लॉकडाउन की वजह से हजारों की संख्या में मजदूरों व अन्य पेशे से जुड़े कामगारों के सामने दो जून की रोटी का संकट पैदा हो गया है. काम नहीं है, पैसे नहीं हैं, बसें व ट्रेनें भी नहीं चल रही हैं, लिहाजा मजदूर पैदल ही सैकड़ों मील का सफर तय करने को मजबूर हैं. छत्तीसगढ़ के रायपुर से अमझोर पैदल आ रहे 7 प्रवासी मजदूर शहडोल  की सीमा में पहुंचे। जहां भूख और प्यास से तड़पते हुए उन्होने जिला शहडोल ग्राम जैतपुर पहुंचे । जहां भूख और थकान से परेशान सभी प्रवासी मजदूर ने थकहार कर  ग्रामीणो से मदद मांगी। जहां ग्रामीणो ने पुलिस को फोन कर सभी 7मजदूरों के संबंध में जानकारी दी गई। सूचना मिलते ही चौकी प्रभारी वीरेंद्र तिवारी और समाज सेवी  आदित्य सिंह ने मौके पर पहुंच कर  जैतपुर थाना प्रभारी  संघप्रिय सम्राट  द्वारा अमझोर पहुचाने की व्यवस्था की गई ।



 


Popular posts
परिवारवाद’’,’’वंशवाद’’,’’भाई-भतीजावाद-चाचा-भतीजावाद’’ ’’अधिनायकवाद’’ एवं ’’जातिवाद’’! *लोकतंत्र के लिए खतरनाक? कैसे! कब! और क्यों? निदान!
Image
बिहार में एनजीओ के किचन में ब्लास्ट
Image
18 मई को दद्दाजी की प्रथम पुण्यतिथि में शिष्य मंडल जरूरतमंद स्थानों पर भोजन पैकेट का वितरण करेगा
Image
मिलावटखोरों पर कहर , अफसरों को मंत्री के निर्देश, रासुका  की तयारी 
Image
लॉकडाउन के दौरान अनुपपुर में शराब के लिए महुआ का  परिवहन  जोरो पर, धारा 144 का उलंघन
Image