थाना प्रभारी ने दिखाई मानवता, प्रवासी मजदूरों को गृह स्थान पहुचाने हेतु की व्यवस्था

अनुराग त्रिपाठी :-


शहडोल /लॉकडाउन की वजह से हजारों की संख्या में मजदूरों व अन्य पेशे से जुड़े कामगारों के सामने दो जून की रोटी का संकट पैदा हो गया है. काम नहीं है, पैसे नहीं हैं, बसें व ट्रेनें भी नहीं चल रही हैं, लिहाजा मजदूर पैदल ही सैकड़ों मील का सफर तय करने को मजबूर हैं. छत्तीसगढ़ के रायपुर से अमझोर पैदल आ रहे 7 प्रवासी मजदूर शहडोल  की सीमा में पहुंचे। जहां भूख और प्यास से तड़पते हुए उन्होने जिला शहडोल ग्राम जैतपुर पहुंचे । जहां भूख और थकान से परेशान सभी प्रवासी मजदूर ने थकहार कर  ग्रामीणो से मदद मांगी। जहां ग्रामीणो ने पुलिस को फोन कर सभी 7मजदूरों के संबंध में जानकारी दी गई। सूचना मिलते ही चौकी प्रभारी वीरेंद्र तिवारी और समाज सेवी  आदित्य सिंह ने मौके पर पहुंच कर  जैतपुर थाना प्रभारी  संघप्रिय सम्राट  द्वारा अमझोर पहुचाने की व्यवस्था की गई ।



 


Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image