हाई स्कूल,हाई सेकेंडरी परीक्षा 2020 के उत्तर पुस्तिकाओं के होम मूल्यांकन के सम्बन्ध में अध्यापक संगठन अनूपपुर ने दिया आयुक्त को ज्ञापन


     मध्यप्रदेश शासकीय अध्यापक संगठन के अनूपपुर जिला इकाई ने शहडोल संभाग आयुक्त को एक ज्ञापन सौपा  है जिसमे कहा गया है की माध्यमिक शिक्षा मंडल मध्यप्रदेश भोपाल के निर्देशानुसार अनूपपुर जिले में भी हाई स्कूल/ हाई सेकेंडरी परीक्षा  2020 के उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन कार्य दिनांक 25 अप्रैल 2020 से प्रारंभ किया जा रहा है  इस संबंध में संगठन वैश्विक महामारी कोविंड -19  को दृष्टिगत रखते हुए इस सम्बन्ध में आने वाली परेशानी को दृश्टिगत रखते हुए 3 सुत्रीय मांग की गई है  जिसके अंतर्गत 1 , मध्य प्रदेश के लगभग समस्त जिलों में कोविड 19 के चलते तथा आईसीएमआर / WHO एवं मध्यप्रदेश शासन के निर्देश के अनुसार होम मूल्यांकन कराने का निर्णय लिया गया है अतः  अनूपपुर में भी होम मूल्यांकन कराया जाए ।2- इस समय आवागमन का कोई साधन उपलब्ध नहीं है ऐसे में केवल दो पहिया वाहन ही आवागमन के साधन है । अनूपपुर के अधिकांश हाई स्कूल हायर सेकेंडरी विद्यालय अनूपपुर शहर से दूर अधिकतम 80 किलोमीटर तक स्थित है । ऐसे में दो पहिया वाहन से प्रतिदिन इतनी दूर आना-जाना असुविधाजनक होगा । मूल्यांकन जैसे संवेदनशील कार्य जिसमें बच्चे के वर्ष भर के परिश्रम का मूल्यांकन करना होता है प्रभावित होने की संभावना है । इसके अतिरिक्त भीषण गर्मी में आना-जाना भी पूर्णतया सुरक्षित नहीं है ।3- महोदय यदि मूल्यांकन कार्य  केन्द्रीयकृत कराने का निर्णय लिया जाता है तो भी संगठन निम्नलिखित निवेदन करता  है1- मूल्यांकन केंद्र से 40 से 80 किलोमीटर दूर स्थित विद्यालयों के शिक्षकों को मूल्यांकन में उपस्थित होने  की अनिवार्यता में छूट दी जाए ।2-आईसीएमआर / WHO  के रिपोर्ट के अनुसार 50 से 60% लोगों को कोविंड -19 के कोई लक्षण दिखाई नहीं देते ,जबकि वे कोरोना पॉजिटिव होते हैं । ऐसे में संक्रमित व्यक्ति की पहचान कर पाना कठिन है  अतः मूल्यांकन में भाग लेने वाले समस्त मूल्यांकन कर्ताओं की पिछली पूरी ट्रैवल हिस्ट्री जानने के उपरांत एवं आईसीएमआर /WHO  के निर्देशानुसार संतुष्ट होने के बाद ही मूल्यांकन कार्य में सम्मिलित किया जाए ताकि संक्रमण की स्थिति से बचा जा सके ।3- मूल्यांकन केंद्र में आईसीएमआर / WHO / भारत सरकार के समस्त निर्देशों का पालन करते हुए मूल्यांकन केन्द्र की समुचित व्यवस्था की जाय तथा मूल्यांकन कर्ताओं को संक्रमण से बचाने के लिए समस्त सुविधाएं उपलब्ध कराया जाए । जैसे सैनिटाइजर व मास्क की व्यवस्था कराया जाय तथा सामाजिक दूरी व का पूर्णतया पालन कराया जाए । महोदय कोरोना एक वैश्विक महामारी है ,जिसने पूरे विश्व को अपने चपेट में ले लिया है और प्राथमिक शिक्षक /माध्यमिक शिक्षक  व उच्चतर माध्यमिक शिक्षकों को ना तो अनुकंपा  की पात्रता है, ना ही परिवार पेंशन की पात्रता है और ना ही शासन द्वारा उन्हें विशेष बीमा का लाभ ही दिया जा रहा है अतः यदि कोई शिक्षक कोरोना से प्रभावित हो जाता है तो उसकी पूर्ण जवाबदारी जिला प्रशासन की होगी ।संगठन आयुक्त महोदय से उक्त समस्त बिंदुओं पर गंभीरतापूर्वक विचार कर उचित निर्णय लेने का आग्रह किया  है ।
             


हमने यह ज्ञापन जिला कलेक्टर एवं आयुक्त महोदय को दिया है । कलेक्टर महोदय को सीधी एवं आयुक्त महोदय को व्हाट्सएप पर भेजा है । किन्तु अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। सोसल डिस्टेन्सिग का पालन नहीं हो रहा है  


      एस एन पाठक
संभागीय अध्यक्ष शासकीय अध्यापक संगठन


 


Popular posts
राज्यपाल के कार्यक्रम में जनजाति समाज के लोगों के जीवन को खतरे में डालने कि इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्‍वविदयालय की साजिश .
Image
मध्य प्रदेश में सियासी हलचल तेज, मंत्री बिसाहूलाल सिंह को भोपाल लेजाने अचानक पंहुचा हेलीकॉप्टर
Image
महामहिम राज्यपाल का जनजाति समुदाय की ओर से विधायक पुष्पराजगढ़ ने किया स्वागत जनसमस्याओं से कराया अवगत
Image
महात्मा गांधी, एवं स्व. श्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर एक दिवसीय वालीबाल प्रतियोगिता का आयोजन, बरगवां यूथ ब्रिगेड रही विजेता
Image
राजनीति और कानून का मिश्रित नंगा स्तरहीन नाच ? ‘‘लखीमपुर खीरी"
Image