प्रदेश के 173 डाॅक्टरों को डियूटी पर लौटने के लिए आखिरी चेतावनी

 


कोरोना महामारी के बीच ये डाॅक्टर है अस्पतालों से लापता...


रघु मालवीय 


भोपाल। पूरा देश इस समय कोरोना महामारी से जूझ रहा है। ऐसे में सरकारी अस्पतालों के डाँक्टरो की जिम्मेदारी और अधिक महत्वपूर्ण है,पर इन अस्पतालों के कई डाँक्टर बिना बताए दो-ढाई माह से लापता है। कोरोना संक्रमण से प्रभावित मध्यप्रदेश सहित देश के अस्पतालों में इलाज कराने के लिए मरीजों की लाइन लगी हुई है। ऐसे में सरकारी अस्पताल में डाँक्टरो का गैरहाजिर रहना सरकार और जनता के लिए चिंता का विषय है,वहीं लापरवाही भी है। सरकार ने इन डाॅक्टरों को डियूटी पर लौटने के लिए कई सूचनाएं दी,इनमें से कुछ डाक्टर तो वापस लौट आये पर अभी भी 173 डाॅक्टर अभी भी लापता है। लगातार अपनी सेवाओं से गैरहाजिर इन डाक्टरों को सरकार ने आज आखिरी चेतावनी देते हुए विज्ञापन जारी किया है,जिसमें 10 दिनों के अंदर संबंधित जिलों में सी.एम.एच.ओ.को अनिवार्य रूप से अपनी उपस्थिति देने को कहा गया है। यदि इन डाॅक्टरों ने 1 जुलाई तक अपनी उपस्थिति दर्ज नहीं कराई तो इनकी सेवाएं समाप्त कर दी जाएगी। इसी प्रकार मेडिकल सेवा के अन्य कर्मचारी भी गैरहाजिर है। 


Popular posts
मंत्री बिसाहूलाल सिंह के प्रयासों से चोलना पड़ोर मार्ग में उच्च स्तरीय पुल निर्माण की मिली स्वीकृति
Image
भाजपा ने गुजरात में भूपेंद्र पटेल को मुख्यमंत्री पद पर नियुक्त कर इतिहास रचा।
Image
हिंदी दिवस में हुआ भव्य आयोजन (महिलाओं के लिए किया गया हिंदी संवर्धन पर विशेष कार्यक्रम
Image
परासी - तितरीपोंडी,पसला- चरतरिया, धिरौल- पटना मार्ग निर्माण शीघ्र
Image
रेलवे फ्लाईओवर ब्रिज निर्माण में हो रही देरी को लेकर पूर्व विधायक रामलाल रौतेल करेंगे अनिश्चितकालीन उपवास
Image