उप्र राज्यपाल आनंदीबेन को मप्र का प्रभार, कभी भी हो सकता है शिवराज के मंत्रिमंडल विस्तार. दिल्ली में मंथन जारी

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अब अपने मंत्रीमंडल का विस्तार कभी भी कर सकते हैं.



भोपाल /आनंदीबेन पटेल को रविवार को मध्य प्रदेश का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है. मप्र राज्यपाल लालजी टंडन की अनुपस्थिति में आनंदीबेन को मप्र का कार्यभार दिया गया है 85 वर्षीय टंडन का 11 जून से लखनऊ के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है. लालजी टंडन को 11 जून को सांस की दिक्कत और बुखार आने पर मेदांता हॉस्पिटल लखनऊ में भर्ती कराया गया था. लालजी टंडन की कोरोना जांच भी की गई थी. हालांकि उनकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई थी, आनंदीबेन के राज्यपाल नियुक्त होते ही मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली सरकार के मंत्रिमंडल के दूसरे विस्तार की कवायद तेज हो गई है और संभावित नामों पर दिल्ली में मंथन हो रहा है. मुख्यमंत्री चौहान प्रदेशाध्यक्ष शर्मा और महामंत्री संगठन भगत के साथ रविवार की दोपहर को स्टेट प्लेन से दिल्ली के लिए रवाना हुए. तीनों नेता सोमवार की शाम तक दिल्ली में रहेंगे. उनकी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ पूर्व केंद्रीय मंत्री सिंधिया से भी मुलाकात संभावित है.इस मुलाकात के दौरान संभावित मंत्रियों के नाम पर चर्चा होगी और नामों को अंतिम मुहर लगेगी. चौहान और भाजपा प्रदेशाध्यक्ष शर्मा व महामंत्री संगठन भगत सोमवार दोपहर बाद भोपाल लौट सकते हैं.एसा माना जा रहा है कि चौहान मंत्रिमंडल का दूसरा विस्तार संभावित तीन दिन के अंदर ही हो सकता है. मंत्रिमंडल में किसे जगह दी जाए, इसके लिए मुख्यमंत्री और राज्य संगठन अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा व महामंत्री संगठन सुहास भगत के बीच कई दौर की चर्चा हो चुकी है. नामों पर आम सहमति भी बन चुकी है. तीनों नेता दिल्ली प्रवास पर हैं.कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया राज्यसभा के लिए निर्वाचित हो चुके हैं. उनके दो समर्थक मंत्री बनाए जा चुके हैं.इसके अलावा सिंधिया के साथ भाजपा में आए महेंद्र सिंह सिसोदिया, इमरती देवी, प्रद्युम्न सिंह तोमर, प्रभुराम चौधरी, राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव, एंदल सिंह कंसाना, हरदीप डंग, रणवीर जाटव और बिसाहूलाल सिंह इनके अलावा बीजेपी के गोपाल भार्गव, विजय शाह, गौरीशंकर बिसेन, यशोधरा राजे, राजेंद्र शुक्ला, रामपाल सिंह, भूपेंद्र सिंह ठाकुर, , यशपाल सिंह सिसौदिया, अरविंद भदौरिया, भोपाल से विश्वास सारंग, रामेश्वर शर्मा, इंदौर से रमेश मेंदोला और ऊषा ठाकुर को भी मंत्री बनाया जाना है. ये नाम लगभग तय भी हो चुके हैं.