आज से सावन सोमवार में भक्त भगवान भोलेनाथ के दर्शन करेंगे।

 राजनगर:/ आज सावन का पहला सोमवार है। इस बार सावन का माह 6 जुलाई से 3 अगस्त 2020 तक चलेगा जिसमें मुख्य रुप से 5 सोमवार पड़ेंगे। राजनगर क्षेत्र के प्राचीन शिव मंदिर जोड़ा तालाब, रामनगर थाना परिसर शिव मंदिर न्यू राजनगर, साइडिंग शिवमंदिर, शांतिनगर कॉलोनी में शांतेश्वर महादेव मंदिर, तथा केरहा धाम में शिव मंदिर में शिव भक्त दर्शन कर जल चढ़ाएंगे। सभी मंदिरों में भक्तों को दर्शन के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सावन का महीना भगवान शिव को काफी पसंद होता है।धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सावन महीने में पड़ने वाले सोमवार को शिव की पूजा अर्चना करने पर सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। इस दिन व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है।इस महीने में लोग सुखी विवाहित जीवन की कामना करने के लिए व्रत रखते हैं। इसके साथ ही महिलाएं अच्छा जीवनसाथी पाने के लिए भी इस महीने व्रत रखती हैं। भगवान शिव की पूजा के लिए और सुखी वैवाहिक जीवन की कामना से सावन सोमवार व्रत रखे जाते हैं। अगर विवाह में अड़चनें आ रही हैं। तो संकल्प लेकर सावन के सोमवार का व्रत किया जाना चाहिए आयु या स्वास्थ्य बाधा हो तभी सावन के सोमवार का व्रत उत्कृष्ट परिणाम देता है।16 सोमवार व्रत का संकल्प सावन में लेना सबसे अति उत्तम माना जाता है। सावन महीने में मुख्य रूप से शिवलिंग की पूजा होती है। उस पर जल तथा बेलपत्र अर्पित किया जाता है। इसलिए इस महीने मे शिवलिंग कि पूजा की जाती है। इस दिन शिवलिंग का दूध से अभिषेक किया जाता है। शिवजी की पूजा में केतकी के फूलों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।मान्यता के अनुसार केतकी के फूल चढ़ाने से भगवान भोलेनाथ नाराज होते हैं। इसके अलावा तुलसी को कभी भी भगवान शिवजी को अर्पित नहीं किया जाता। साथ ही शिवलिंग पर कभी भी नारियल का पानी नहीं चढ़ाना चाहिए। भगवान शिव जी को हमेशा काश्य पीतल के बर्तन से जल चढ़ाना चाहिए।भोले बाबा को खुश करने के लिए लोग कई तरह के विशेष पूजन व उपाय करते हैं। कई भक्तगण सावन के पूरे माह की व्रत रखते हैं। तो कई केवल सावन सोमवार का व्रत करते हैं।