अज्ञानता के अंधेरे से सही मार्ग की ओर ले जाने का श्रेय गुरु को ही प्राप्त है--पं. अविरल गौतम


अविरल गौतम :-


आज रविवार पांच जुलाई को गुरु पूर्णिमा है। इस दिन गुरू की पूजा अर्चना की जाती है। अज्ञानता के अंधेरे से सही मार्ग की ओर ले जाने का श्रेय गुरु को ही प्राप्त है। आज के इस शुभ अवसर पर सभी गुरुओं को गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं


आज पूरा देश गुरु पूर्णिमा मना रहा है।आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा कहते हैं। इस दिन सनातन धर्म में गुरु पूजा का विधान है। गुरु पूर्णिमा वर्षा ऋतु के आरंभ में आती है आज का दिन गुरु की महिमा का बखान करने का दिन है , जो हमें भगवान और सृष्टि से रुबरु कराता है। जो हमें जीवन जीना सिखाता है। जो हकीकतों से हमें वाकिफ कराता है। गुरु हमारी बंद आंखें खोलता है, ताकि हम अच्‍छा और बुरा का भेद जान सकें। जैसे सूर्य के ताप से तपती भूमि को वर्षा से शीतलता और फसल पैदा करने की ताकत मिलती है, वैसे ही गुरु-चरणों में शिष्यों को ज्ञान, शान्ति, भक्ति और योग शक्ति प्राप्त करने की शक्ति मिलती है।