अनूपपुर कांग्रेस जिला अध्यक्ष जिस महिला को मृतक बता रहे थे वह आज भी जिंदा है- बृजेश गौतम 


अनूपपुरl कांग्रेस प्रत्याशी विश्वनाथ सिंह की पहली पत्नी जिसे कांग्रेश के जिला अध्यक्ष से लेकर तमाम लोग मृतक बता रहे थे उसके जिंदा होने का प्रमाण भारतीय जनता पार्टी द्वारा प्रस्तुत किया गया, एक जिंदा महिला को मृतक बताकर अपने कारगुजारी के ऊपर पर्दा डालने का जो प्रयास कांग्रेश के नेता कर रहे थे उस पर्दे से भाजपा ने बेनकाब कर दिया है भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष बृजेश गौतम ने पत्रकार वार्ता आयोजित कर कांग्रेस प्रत्याशी विश्वनाथ सिंह कुंजाम द्वारा अपनी पहली पत्नी श्रीमती सुशीला सिंह के रहते हुए दूसरी पत्नी को अपने शपथ पत्र में सामने लाया है जबकि उसका विवाह श्रीमती सुशीला सिंह से 2005 में हुआ था और वह 2007 तक कांग्रेस प्रत्याशी विश्वनाथ सिंह कुंजाम के साथ ग्राम खम्हरिया में रही है।जिला कांग्रेस अध्यक्ष जयप्रकाश अग्रवाल द्वारा यह कहना कि उसकी पहली पत्नी की मृत्यु होने के बाद दूसरी पत्नी से विवाह किया यह पूरी तरह से गलत बात है।उन्होंने कहा कि हिंदू मैरिज एक्ट में एक पत्नी के जिंदा रहते दूसरी पत्नी रखना कानूनन अपराध है जो विवाहित है उसे छुपाया जा रहा है।13 वर्ष से वह दर दर की ठोकर खा रही है कांग्रेसी प्रत्याशी की प्रताड़ना की शिकार है।भाजपा प्रत्याशी बिसाहूलाल सिंह ने पहली पत्नी को न्याय दिलाने के लिए सच्चाई को उजागर किया और कांग्रेस ने उसकी महिला विंग ने बिना किसी अनुमति के कोतवाली का घेराव कर कर भाजपा उम्मीदवार के खिलाफ कार्यवाही की मांग की और कोतवाली ने बिना दूसरे पक्ष को सुने कार्यवाही की यह गलत कदम है।कोतवाली का कहना है कि निर्वाचन आयोग के निर्देश पर हमने f.i.r. लिखी है जबकि दूसरे पक्ष को भी सुनना था यह दुर्भाग्यपूर्ण कार्रवाई है। इसके लिए हम उचित न्यायालय में जाएंगे कांग्रेस ने झूठ बोला है।कांग्रेस प्रत्याशी की पहली पत्नी छत्तीसगढ़ के खोंगसरा के ग्राम बब्बूड़ मे आज भी अपने मायके में रह रही है।पूर्व जनपद अध्यक्ष गंगा सिंह कल ही उससे मिल कर आए हैं और उनके आधार कार्ड के साथ उनकी फोटो सामने है और जरूरत पड़ेगी तो वह मीडिया के सामने भी आएगी। भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष बृजेश गौतम ने कहा कि भाजपा के प्रत्याशी भी शीघ्र मीडिया से रूबरू होंगे और भारतीय जनता पार्टी कांग्रेश के खिलाफ कानूनी कार्यवाही उचित मंच से करेगी।


Popular posts
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image