EOW ने की कार्रवाई/नगर निगम का सिटी प्लानर 5 लाख की रिश्वत लेते गिरफ्तार,

एंटी माफिया मुहिम का खौफ दिखाकर  ग्वालियर नगर निगम के इंजीनियर प्रदीप वर्मा ने बिल्डर्स धर्मेंद्र भारद्वाज से 50 लाख रुपये की रिश्वत मांगी थी. दो माह पहले सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा ने बुलडोजर लगा दिया था. तुड़ाई के डर से सहमे बिल्डर धर्मेंद्र भारद्वाज ने सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा से बात की तो तुड़ाई रुकवाने के लिए पचास लाख रुपये की मांग की गई. बिल्डर ने कोरोना के कारण आर्थिक संकट बताया तो तय हुआ कि दस लाख रुपये अभी देना होंगे और बाकी रकम बाद में दे दिया जाएगा



ग्वालियर /मध्यप्रदेश पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने शनिवार को ग्वालियर नगर निगम के सिटी प्लानर को एक बिल्डर से पांच लाख रुपये की रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार किया है। यह घूस बिल्डर को निर्माण कार्य की अनुमति देने के एवज में मांगी गई थी।ईओडब्ल्यू के पुलिस अधीक्षक अमित सिंह ने बताया कि बिल्डर धर्मेंद्र भारद्वाज की शिकायत पर ग्वालियर नगर निगम के सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा को पांच लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया है।उन्होंने बताया कि वर्मा द्वारा भारद्वाज की एक निर्माण परियोजना को मंजूरी देने के बदले में 50 लाख रुपये की रिश्वत मांगी गयी थी। रिश्वत की राशि बाद में 25 लाख रुपये तय हुई और शनिवार को पांच लाख रुपये की पहली किश्त देने की बात तय की गयी।सिंह ने बताया कि भारद्वाज की शिकायत के बाद योजनानुसार उसे पांच लाख रुपये की रिश्वत के साथ वर्मा की कार में भेजा गया और इशारा मिलते ही पुलिस के दल ने वर्मा को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया।