भ्रष्टाचार का इतिहास बनता नगरपालिका बिजुरी, ठेकेदारों के साथ मिलकर कर रहे हैं पैसों का बंदरबांट


अविरल गौतम:- 


सरकार भले ही बदली लेकिन नहीं बदले तो भ्रष्टाचार करने के उपाय अलग अलग तरीके से भ्रष्टाचार करने के उपाय भ्रष्टाचारियों द्वारा निकाल लिए जाते हैं अनूपपुर जिले के नगरपालिका बिजुरी जहां पर निर्माण कार्य का जिम्मा नगर पालिका बिजुरी अध्यक्ष का है लेकिन कमीशन व भ्रष्टाचार करने के चक्कर में नगर पालिका अपने चहेते लोगों को काम ठेके पर दे कर निर्माण कार्य को बलि चढ़ाने में बिल्कुल संकोच नही कर रही हैं नगर पालिका बिजुरी में तो आम व्यक्तियों के लिए कोई जगह ही नहीं समय पर उनके काम होते ही नहीं मुख्य नगर पालिका अधिकारी व अध्यक्ष से जनता काफी हद तक जनता नाराज होती जा रही हैं।


मुख्यमंत्री जी द्वारा मंच के माध्यम से बोले गए शब्द कोरे हो रहे साबित


एक तरफ प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान जी के द्वारा कार्यक्रमों में मंच के माध्यम से यह कहा जाता है कि हमारी सरकार में कहीं भी भ्रष्टाचार नहीं होगा और भ्रष्टाचार पर सख्त कार्यवाही भी की जाएगी लेकिन ठीक इसके विपरीत अनूपपुर जिले की नगरपालिका बिजुरी इन दिनों शासकीय पैसे का कैसे बंदरबांट किया जाए इसके लिए रोजाना नगरपालिका बिजुरी क्षेत्र मे इतनी तेजी से गुडवक्ता विहीन कार्य हो रहा है।


30से35 प्रतिशत कमीशन पर कराया जा रहा निर्माण कार्य


नगर पालिका बिजुरी में इन दिनों कमीशन पर निर्माण कार्य कराया जा रहा है साथ ही इन सभी कार्यों में मुख्य नगरपालिका अधिकारी, अध्यक्ष एवं इंजीनियर की मिलीभगत से गुणवत्ता विहीन कार्य कराया जा रहा है। कमीशन के खेल में यह जिम्मेदार लोग इतने मदहोश हो चुके हैं कि जिन जगहों पर निर्माण कार्य हो रहा है वहां पर कैसे कार्य होना है या कैसे किया जा रहा है इससे कोई मतलब ही नहीं है और ठेकेदार के द्वारा अपने जुगाड़ के हिसाब से कार्य कराया जा रहा है।


लाखों के बजट का बंटरबाट में लगे जिम्मेदार


बिजुरी नगर पालिका अंतर्गत हो रहे सड़क निर्माण कार्य में गुणवत्ता विहीन मटेरियल के साथ डस्ट युक्त गिट्टी का उपयोग निर्माण कंपनी द्वारा कराया जा रहा है साथ ही सड़क की शिकायत ग्रामीणों द्वारा मौके पर उपस्थित निर्माण कंपनी के लोगों से की लेकिन कई बार बोलने के बावजूद भी निर्माण कंपनी द्वारा मनमाने तौर पर गुणवत्ता विहीन सड़क निर्माण कर शासकीय पैसे का दुरुपयोग कर रहे हैं जिस पर लोगों ने यह भी बताया कि सड़क निर्माण कर अच्छी खासी रकम ठेकेदार द्वारा वसूल की जा रही है 


ये कहती है गाईड लाईन


सीसी सड़क निर्माण 12 इंच की होती हैं जिसमें रोड को समतलीकरण कर के पहले पन्नी बिछनी है उसके वाद 40 एमएम गिट्टी के माध्यम से फर्स्ट लेयर की ढलाई करनी है एवं सेकंड लेयर 20 एमएम गिट्टी के माध्यम से ढलाई कर बाईबेटर मशीन चलानी होती है साथ 8 से 10 फिट की दूरी में थर्माकोल लगाया जाता हैं जिससे कि सड़क के एयर निकलते रहे लेकिन बिजुरी नगर पालिका अंतर्गत बनाई जा रही किसी भी सीसी सड़क में यह कार्य नहीं हुआ है साथ ही सीसी सड़कों पर सीमेंट की मात्रा भी काफी कम है जिसके कारण सड़क एक ही बरसात के पानी के बहाव में बह जाएगी साथ ही डामरीकरण सड़कों के निर्माण कार्य में मनमानी तरीके से कचड़े युक्त गिट्टी का इस्तेमाल करके और पुरानी सड़कों के ऊपर बिना डब्ल्यूबीएम किए डामरीकरण सड़क का निर्माण करवाया जा रहा है वही क्षेत्र के लोगों ने जिम्मेदार अधिकारियों से इस ओर ध्यान देने एवं इन निर्माण कार्यों पर जांच कराने की मांग की है और अगर इन निर्माण कार्यों की जांच जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा नहीं की जाती है तो नगर के लोग इस भ्रष्टाचार के खिलाफ खुला आंदोलन करने की बात कर रहे हैं अब देखना यह होगा कि आखिर जिम्मेदार अधिकारी इस ओर ध्यान देते हैं य युही बिजुरी के लोग इस भ्रष्टाचार पर लामबंद होते हैं।


नगरपालिका इंजीनियर साइड देखना भी नहीं समझते उचित


जन चर्चाओं की माने तो नगर पालिका बिजली द्वारा जितने भी निर्माण कार्य कराए जा रहे हैं वह पूरी तरह गुणवत्ता विहीन कार्य कराया जा रहा है और उक्त कार्य जिस निर्माण कंपनी द्वारा कराया जा रहा उक्त कार्य को देखना तो दूर उस कार्य साइड में आना भी उचित नहीं समझते जन चर्चाओं की माने तो साइड में ना आने के एवज में पेशगी के रूप में मोटी रकम परसेंटेज के हिसाब से अधिकारियों के पास पहुंच जाता है।


भौतिक सत्यापन से खुलेगी पोल


नगर पालिका बिजली परिषद के अंतर्गत हो रहे निर्माण कार्य बीते 1 साल से जितने भी निर्माण कार्य हुए हैं उनके उच्च स्तरीय जांच की जाए और भौतिक सत्यापन कराया जाए लगातार बिजली नगर की जनता सोशल मीडिया और व्हाट्सएप के जरिए बड़े अधिकारियों को जानकारी दी जा रही है जिसमें आज दिनांक तक किसी भी प्रकार की कार्यवाही नहीं की गई है जनता द्वारा लगातार अपील की जा रही है क्यों रहे निर्माण कार्यों की भौतिक सत्यापन उच्च अधिकारियों द्वारा की जिससे उक्त ठेकेदार और नगर पालिका के अधिकारियों के ढोल के अंदर के पोल जनता के सामने आ सके ।


 


इनका कहना है


जानकारी संज्ञान में है शिकायत प्राप्त हुई है नगर पालिका से दस्तावेज मंगाए गए हैं सक्षम अधिकारी से जांच करा कर कार्यवाही की जाएगी।


कबूल खान 


संयुक्त संचालक नगरी प्रशासन शहडोल


Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image