जिला अस्पताल शहडोल में 8 नवजात बच्चों की हुई आकस्मिक मृत्यु की न्यायिक जाँच हो : रमेश कुमार सिंह 

 



 


अनूपपुर /जिला अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही से हुए 8 नवजात शिशुओं की मौत पर पूर्व संयुक्त कलेक्टर रमेश सिंह अपनी गहरी शोक समवेदना व्यक्त करते हुए स्वास्थ्य मंत्री एवं मुख्यमंत्री से मामले की निष्पक्ष जाँच करवाने एवं दोषियों को निलम्बित करकें उनपर आपराधिक मुक़दमा दर्ज किए जाने की मांग की !और कहा कि अस्पताल प्रबंधन के लापरवाही के कारण आज किसी के घर के चिराग़ चला गया, आख़िर पहले मौत पर क्यूँ नहीं चेता प्रबंधन , क्या ऐसे ही हम मुक़दर्शक बने रहेंगे और किसी गरीब के घर का चिराग़ आने के पहले ही मिट जाएगा, क्या गरीब को इस प्रदेश में जीने का अधिकार नहीं है, आख़िर क्यूँ जिला प्रशासन और प्रदेश की शाशन इस आदिवासी संभाग में पर्याप्त सुविधा जिला अस्पताल में मुहैया नहीं करवाती है, मैं सभी पीड़ित परिवार के साथ इस दुःख के घड़ी में खड़ा हूँ, मैंने जिला अध्यक्ष आज़ाद बहादुर जी से फ़ोन पर चर्चा किया है, इस जाँच को जिला प्रशासन के हाँथ में शौपा गया है, ये तो चोर के हांथ में चाबी शौपने जैसा हो गया, अगर 5 दिवस में इसकी जाँच न्यायिक प्रक्रिया से नहीं होता है तो जिला प्रशासन उग्र आंदोलन के लिए तैयार रहे! इस गरीब आदिवासी अंचल में उनके न्याय के लिए जिस हद तक लड़ना पड़े हम उसके लिए तैयार हैं लेकिन अन्याय नहीं होने देंगे!!


          


Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image