जिले का समुचित विकास हो एवं धार्मिक कार्यो के लिए नदी किनारे घाट का निर्माण कराया जाये : राम नारायण द्विवेदी

 

अनूपपुर /अनूपपुर को जिला बने कई वर्ष हो गए है लेकिन आज तक अनूपपुर जिले के सर्वांगीण विकास नहीं हो पाया है।  अनूपपुर में शिक्षा स्वास्थ एवं जनउपयोगी कार्य कराया जाना अभी भी आवश्यक है,शिक्षा के लिए यहां से काफी संख्या में बालक कान्वेंट या अन्य विद्यालय में जिले के बाहर जाते है, किन्तु होना यह चाहिए  की बाहर से पाल्य यहां पढ़ने आये प्रतियोगी परिच्छाओं के लिए बेहतर कोचिंग की व्यवस्था कर हम अच्छे प्रतिभाओं को आगे भेज सकते है ,इस पर गंभीरता से विचार होना चाहिए।  इसी प्रकार जिले में बेहतर चिकित्सा व्यवस्था नहीं है ,सामान्य बीमारी में भी यह के रहवासियों को जांच और इलाज  के लिए जिले से बाहर जाना पड़ता है। इसके साथ ही सभी व्रत त्यौहार अंतिम सत्कार आदि के लिए जिला मुख्यालय में नदियों के किनारे घाट उपलभ्ध नहीं है जबकि अनूपपुर जिला नदियों से घिरा हुआ है उन पर काफी काम किया जा सकता है । घाट बन जाने पर सभी धार्मिक कार्य सुगमता से किया जा सकता है, यही स्थित यहाँ के मुक्ति धामों की है जो की व्यस्थित नहीं है बिगत पांच से सात वर्षो में जिले की आबादी तेजी से बढ़ी है और आगे भी बढ़ेगी।  यह बात  सेवानिवर्त शिक्षक नेता  राम नारायण द्विवेदी ने अनूपपुर स्थित विवेकानंद स्मार्ट सिटी में शिक्षक सम्मान समारोह कार्यक्रम में पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष  प्रेम कुमार त्रिपाठी जी से विस्तृत चर्चा करते समय कही और श्री त्रिपाठी से जिले के सर्वांगीण विकास के लिए सही योजना बनाकर काम कराये जाने की मांग रखी,त्रिपाठी जी ने सभी बातो पर सहमति जताते हुए कहा की सभी कार्य जिले के सर्वांगीण विकास के किये अति आवश्यक है  आने वाले समय में सभी कार्यो को पूरा कराने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे ,इस अवसर पर घनश्याम सिंह सोलंकी,पूर्व नगर कांग्रेस अध्यक्ष तौहिद बाबा खान,पत्रकार संदीप गर्ग एवं कई सम्मान्नित लोग उपस्थित रहे।  

Popular posts
‘लोकतंत्र के मंदिर’’ में ‘‘अर्द्धसत्य’’ कथन कर ‘‘न्याय मंदिर’’ व ‘‘जनता के मंदिर’’ को झूठला दिया गया?
Image
तनाव’’, ‘‘कारण-निवारण’’!
Image
पेगासस : पत्रकारों, जजों मंत्रियों आदि की जासूसी लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए अत्यंत खतरनाक , जांच ज़रूरी..
Image
रेलवे स्टेशन के बाहर लोकायुक्त की कार्रवाई, कार्यपालन अभियंता को तीन लाख की रिश्वत के साथ पकड़ा
Image
क्या ‘‘वरूण’’ भारतीय राजनीति में (विलुप्त होते) ‘‘गांधीज़’’ (नाम) की परंपरा के सफल वाहक सिद्ध हो पायेगें
Image