नियम कानून को धता बता रहे ओएनजीसी कंपनी के जिम्मेदार ,कोविड 19 का नही कर रहे पालन नियम विरुद्ध वाहन दौड़ाकर पुलिस विभाग के जिम्मेदारों पर बढ़ रहे भारी





अनूपपुर / संभाग शहडोल अंतर्गत अनूपपुर शहडोल एवं उमरिया जिले में ओएनजीसी का मोनो चिपकाकर सैकड़ों वाहन नियम कानून को धता बताते हुए पुलिस के सामने फराटे मार कर दौड़ रहे हैं । इनके द्वारा ना तो कोरोना वायरस संक्रमण के गाइडलाइन का पालन किया जा रहा है । ना ही सर्वे के दौरान परिचालन में उपयोग किए गए वाहन का कंपनी में चलाए जा रहे टैक्सी परमिट के वाहनों के अधिकांश चालक जो बिना कमर्शियल लाइसेंस के वाहनों को दौड़ा रहे हैं तो वही सीट बेल्ट व अन्य गाइडलाइन का पालन बिल्कुल नहीं किया जा रहा साथ ही जहां एक और देशभर में कोरोनावायरस को लेकर शासन प्रशासन मैं बैठे जिम्मेदार आमजन के जान बचाने की तैयारी में जुटे हुए हैं यहां तक की प्राइवेट एवं सरकारी सेक्टरों के काम आज 2 माह से बंद पड़े हुए हैं वही ओएनजीसी कंपनी के द्वारा सैकड़ों की तादात में श्रमिकों से बिना कोरोनावायरस के गाइडलाइन का पालन किए काम किया जा रहा है इनके द्वारा प्रत्येक वाहन में जहां कोविड-19 के तहत चालक सहित तीन लोग की अनुमति दी जाती है लेकिन ओएनजीसी कंपनी के जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा चार पहिया वाहन में ईट फुल करके श्रमिकों को बिना सुरक्षा व्यवस्था दिलाएं कायम प्रतिशत ले जाया जा रहा है कंपनी के जिम्मेदारों द्वारा शासन प्रशासन में बैठे अधिकारियों की आंखों में धूल झोंक कर सेंट्रल गवर्नमेंट का काम बताते हुए कई जगह बिना अनुमति के वाहनों को दौड़ा देना जंगलों में वन मार्ग की अनुमति के बिना केबल बिछाकर मनमानी रास्ते से वाहनों को दौड़ आते भी है दिल करना का काम किया जाता है जहां जंगलों में जंगली जानवरों को भारी नुकसान सहना पड़ रहा कारण की इनके द्वारा ड्रिल मशीन के द्वारा बोर करने के बाद धमाकेदार ब्लास्टिंग की जाती है जिससे आसपास की धरती तक हिल जाती है उस भय के कारण कई जंगली जानवर तहस-नहस हो जाते हैं प्राप्त जानकारी के मुताबिक ओएनजीसी कंपनी के जिम्मेदार अधिकारी कर्मचारियों द्वारा 5 से 10 वाहनों का अनुमति लेने के बाद सैकड़ों की तादात में वाहन एवं मशीनरी नियम विरुद्ध तरीके से दौड़ाया जा रहा है साथ नहीं जिले में बढ़ते संक्रमण को लेकर कलेक्टर के द्वारा प्रतिबंधित किए जाने के बावजूद भी नियम विरुद्ध चार पहिया वाहनों में ओवरलोड श्रमिकों की सवारी लेकर यात्रा की जा रही है जबकि नगर में संक्रमण को मद्देनजर रखते हुए जिला प्रशासन के द्वारा पॉइंट बनाकर वाहनों की चेकिंग के लिए जगह जगह चेक पोस्ट बनाए जाते हैं जब पुलिस पूछताछ करती है तो इनके द्वारा कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक से बड़े अधिकारियों से बात करनी कराने की डांस बता कर वाहनों को दौड़ाया जा रहा है इनके लिए धारा 144 का बिल्कुल पालन नहीं किया जा रहा नाही मास्क सोशल डिस्टेंशन वाह श्रमिकों के सेफ्टी शूज सैनिटाइजर की व्यवस्था की गई है उसके बावजूद भी शासन प्रशासन में बैठे जिम्मेदार अधिकारियों के द्वारा 188 की कार्यवाही करने में असमर्थ देखे जा रहे हैं

Popular posts
मंत्री बिसाहूलाल सिंह के प्रयासों से चोलना पड़ोर मार्ग में उच्च स्तरीय पुल निर्माण की मिली स्वीकृति
Image
भाजपा ने गुजरात में भूपेंद्र पटेल को मुख्यमंत्री पद पर नियुक्त कर इतिहास रचा।
Image
हिंदी दिवस में हुआ भव्य आयोजन (महिलाओं के लिए किया गया हिंदी संवर्धन पर विशेष कार्यक्रम
Image
परासी - तितरीपोंडी,पसला- चरतरिया, धिरौल- पटना मार्ग निर्माण शीघ्र
Image
रेलवे फ्लाईओवर ब्रिज निर्माण में हो रही देरी को लेकर पूर्व विधायक रामलाल रौतेल करेंगे अनिश्चितकालीन उपवास
Image