महात्मा गांधी, एवं स्व. श्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर एक दिवसीय वालीबाल प्रतियोगिता का आयोजन, बरगवां यूथ ब्रिगेड रही विजेता


अनूपपुर  को हराकर बरगवां यूथ ब्रिगेड की टीम ने जीता वॉलीबॉल का फाइनल मैच 

अनूपपुर ,संजय नगर /राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, देश के पूर्व प्रधानमंत्री स्व. लाल बहादुर शास्त्री की जयंती  के अवसर पर संजय नगर स्थित मैदान पर  एक दिवसीय  डे नाईट  वॉलीबॉल प्रतियोगिता का आयोजन किया गया ,प्रतियोगिता में   संजय नगर ,अनूपपुर,बुढ़ार ,पटना ,देवहरा, बरगवां सहित छः टीमों ने हिस्सा लिया। सभी टीमों के विजयी अंको के अनुशार बरगवां यूथ ब्रिगेड और अनूपपुर की टीम फाइनल में पहुंची  और इसी  दिन रात्रि 9 बजे से फायनल मैच अनुपपर  व बरगवां के बीच खेला गया। जिसमें  बरगवां यूथ ब्रिगेड ने 2 -1 से  विजयी श्री हासिल की। उपविजेता के रूप में अनूपपुर की टीम रही। बरगवां यूथ ब्रिगेड के  खिलाड़ियों द्वारा किए गए बेहतरीन प्रदर्शन कारण  अनूपपुर पर 2 -1  से जीत दर्ज कर ली। , मैच के दौरान अशोक पांडेय एवं सचिन सिंह ने रेफरी की भूमिका निभाई। बरगवां यूथ ब्रिगेड के  खिलाड़ियों द्वारा किए गए बेहतरीन प्रदर्शन कारण  अनूपपुर पर 2 -1  से जीत दर्ज कर ली। विजेता टीम बरगवां यूथ ब्रिगेड के त्रिवेणी शंकर तिवारी ,विनोद पांडेय,राहुल सिंह ,पीयुष यादव ,मृदुल  सिंह,विपिन, तिवारी, निहाल गुप्ता का  खेल विशेष रूप से सराहनीय रहा। 

इससे पहले  वॉलीबॉल प्रतियोगिता के संजयनगर के खिलाडियों दवारा साथ साफ-सफाई कार्यक्रम भी आयोजित किया गया और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, एवं देश के पूर्व प्रधानमंत्री स्व. लाल बहादुर शास्त्री को भी याद किया गया। इस मौके पर गणमान्य लोगों ने कहा कि अहिंसा के पुजारी महात्मा गांधी जिन्हें हम बापू और राष्ट्रपिता के नाम से संबोधित करते हैं, महान महापुरुष और स्वतंत्रता सेनानी थे। यदि हम यह कहें कि आज के भारत के निर्माण में गांधी का सर्वाधिक योगदान था तो कुछ भी गलत नहीं है, क्योंकि भारत की स्वतंत्रता और आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए उन्होंने सभी धर्मो के लोगों को एक करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका अदा की। महात्मा गांधी ने तमाम उम्र सिर्फ देश के विकास के बारे में सोचा। इसलिए उन्होंने अपने पूरे जीवन में कभी भी कोई राजनीति पद नहीं लिया। वहीं लोगों ने पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को नमन करते हुए कहा कि उनके ही कुशल नेतृत्व में भारत ने 1965 के युद्ध में पाकिस्तान को करारी शिकस्त दी थी और लाल बहादुर शास्त्री ने प्रधानमंंत्री होते हुए जय जवान जय किसान का नारा देकर दुश्मन देश के दांत खट्टे किए थे। उन्होंने देश की एकता एवं अखंडता को मजबूती दी।इस मौके पर कई गणमान्य नागरिक एवं खेल प्रेमी उपस्थित  रहे।



 

 

Popular posts
राज्यपाल के कार्यक्रम में जनजाति समाज के लोगों के जीवन को खतरे में डालने कि इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्‍वविदयालय की साजिश .
Image
मध्य प्रदेश में सियासी हलचल तेज, मंत्री बिसाहूलाल सिंह को भोपाल लेजाने अचानक पंहुचा हेलीकॉप्टर
Image
राजनीति और कानून का मिश्रित नंगा स्तरहीन नाच ? ‘‘लखीमपुर खीरी"
Image
महामहिम राज्यपाल का जनजाति समुदाय की ओर से विधायक पुष्पराजगढ़ ने किया स्वागत जनसमस्याओं से कराया अवगत
Image