जिला प्रशासन द्वारा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनांतर्गत राशि वितरण का जिला स्तरीय कार्यक्रम किया गया


अनूपपुर,। जिला मुख्यालय स्थित कृषि उपज मंडी परिसर में 12 फरवरी को जिला प्रशासन द्वारा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनांतर्गत राशि वितरण का जिला स्तरीय कार्यक्रम किया गया। जहां कार्यक्रम कृषि उपज मंडी के प्रांगण में होने के कारण सब्जी की फसल बेचने आये सैकड़ो किसान परेशान देखे गये। सुबह से ही मंडी प्रांगण में पुलिस ने अपनी लाठियों के सहारे किसानो को दिये गए एक मात्र शेड को खाली करा दिया गया। जिसके कारण किसान कार्यक्रम स्थल से 100 मीटर की दूरी पर अपनी थोक सब्जी की फसल को बेचने के लिए दुकान लगाये। किसानो ने आरोप लगाया कि पुलिस से पूछने पर उन्होने उपसंचालक कृषि एन.डी. गुप्ता के कहने व मंत्री जी कार्यक्रम होने की बात पर उक्त जगह को खाली करवाकर कार्यक्रम की तैयारियां प्रारंभ की जाने लगी। 

भीड़ बढ़ाने जबरन किसानो को बैठने किया मजदूर

जिला स्तरीय फसल बीमा राशि वितरण कार्यक्रम के मुख्य अतिथि खाद्य मंत्री बिसाहूलाल सिंह सुबह कार्यक्रम स्थल पहुंचकर मंच पर विराजमान तो हो गये। लेकिन उनके सामने लगी अधिकतर कुर्सी खाली रही, और जिन कुर्सियों में लोग देखे गये वे भाजपा के नेताओं और शासकीय अधिकारियों-कर्मचारियों की थी। जिसके बाद अचानक नजर अपनी सब्जी की फसल बेचने आये किसानो पर पड़ी और नजर पड़ते ही उन्हे उठाकर कार्यक्रम में बैठाने के निर्देश दे दिये गये। बस क्या था किसानो को जबरन पकड़कर कार्यक्रम स्थल लाया गया और भीड़ दिखाने का प्रयास किया गया, लेकिन किसान अपनी सब्जी बेचने के ख्यालो में वहां से भाग निकलते। 

नेताओं की जी हुजूरी में दिखा जिला प्रशासन

पूरे कार्यक्रम की विफलताओं को देखते ही जिला प्रशासन नेताओं की जी हुजूरी में लग गया। जहां जिला प्रशासन की ऐसी जी हुजूरी की गई कि सामने भाजपा के नेताओं को बैठाने के लिए पत्रकारों को कुर्सियों से उठा दिया गया। जिसके बाद पत्रकार कुर्सी में बैठने से मना करते हुए प्रशासन द्वारा नेताओं के लिये की जा रही जीहुजूरी को देखते रहे। वहीं जिले के नेताओं भी मंत्री के आसपास बैठने व किसी तरह उनतक पहुंचने की होड़ में लगे रहे। नेताओं की जी हुजूरी करते देख किसान भी भौचंका रह गया और जिला प्रशासन को स्वयं नेता बन जाने की उल्लाहना करने लगे। लेकिन जिला प्रशासन सिर्फ पूरे समय कार्यक्रम को सफल दिखाये जाने का नाटक करते रहे। 

जिला प्रशासन पर किसानो ने लगाया आरोप

जिला स्तरीय कार्यक्रम में फैली अव्यवस्था के कारण जहां कार्यक्रम में जबरन किसानों को उनकी सब्जी दुकान से उठाकर कार्यक्रम में भीड़ दिखाने का आरोप कई किसानों ने लगाये है। वहीं कई किसानो को कार्यक्रम में जबरजस्ती लाये जाने का आरोप है। जिससे कई किसानो की सब्जी की फसल की बिक्री नही हो सकी। जिससे उनपर आक्रोश भी देखा गया। उनका कहना था कि जिला प्रशासन ने जानबूझकर उक्त कार्यक्रम को कृषी उपज मंडी में कराया गया है। जबकि कृषि उपज मंडी से सटे आदिम जाति सेवा सहकारी समिति अनूपपुर के प्रांगण में भी जगह थी। लेकिन पैसे बचाने के लिये सब्जी बेचने के लिए किसानो को मिले एकमात्र शेड का उपयोग किया गया।

सब्जीदुकान के लिए मिले एक मात्र शेड पर प्रशासन का कब्जा

जिला मुख्यालय सहित आसपास से सटे लगभग तीन दर्जन से अधिक गांवो के किसान प्रतिदिन अपनी सब्जी की फसल बेचने कृषि उपज मंडी के प्रांगण पहुंचते है। जहां उन्हे सब्जी की फसल बेचने के लिए मंडी परिसर का एक मात्र शेड दिया गया है, वहीं बाकी के किसान खुले परिसर में ही अपनी सब्जी की दुकान लगाकर सब्जी बेचते है। लेकिन प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनांतर्गत फसल बीमा दावा राशि पहुंचाने के जिला प्रशासन द्वारा आयोजित किये गये कार्यक्रम में किसानों द्वारा थोक सब्जी की दुकान लगाने वाले एक मात्र शेड पर भी जिला प्रशासन ने कब्जा कर लिया और किसानो को शेड से 200 मीटर दूरी तक भगा दिया गया। जिससे किसानो की सब्जी भी नही बिक सकी और वे मायूस होकर अपनी सब्जी लेकर घर को लौट गये।

सत्कार भूल गया कृषि विभाग

आज आयोजित हुए किसान मेला कार्यक्रम में जहां 2 दिन पहले से ही कार्यक्रम की तैयारी जोर शोर से की जा रही थी तो वहीं दूसरी ओर सत्कार के नाम पर जिले भर के अधिकारियों व नेताओं को  आमंत्रण भेजा गया था लेकिन जिला मुख्यालय पत्रकारों को आमंत्रण देने में न तो कृषि विभाग में दिलचस्पी दिखाई और न ही जनसंपर्क विभाग ने।  

शोशल मीडिया प्रभारी की भूमिका रही संदिग्ध

यह कहना गलत नहीं होगा कि जनसंपर्क विभाग में कुछ कर्मचारियों द्वारा जानबूझकर पत्रकारों के आमंत्रण कार्ड को दबाकर अपने पास रख लिया गया, जिसमें शोशल मीडिया के प्रभारी रजनीश त्रिपाठी की भूमिका संदिग्ध नजर आई। इतना ही नहीं कार्यक्रम से नाराज हुए पत्रकारों ने इस मामले की शिकायत कलेक्टर से भी की है।

Popular posts
परिवारवाद’’,’’वंशवाद’’,’’भाई-भतीजावाद-चाचा-भतीजावाद’’ ’’अधिनायकवाद’’ एवं ’’जातिवाद’’! *लोकतंत्र के लिए खतरनाक? कैसे! कब! और क्यों? निदान!
Image
बिहार में एनजीओ के किचन में ब्लास्ट
Image
18 मई को दद्दाजी की प्रथम पुण्यतिथि में शिष्य मंडल जरूरतमंद स्थानों पर भोजन पैकेट का वितरण करेगा
Image
मिलावटखोरों पर कहर , अफसरों को मंत्री के निर्देश, रासुका  की तयारी 
Image
राज्यपाल सुश्री उइके से क्षेत्रीय पासपोर्ट अधिकारी श्रीमती सुनीता पुरोहित ने की भेंट
Image