बरगवां अमलाई मेला मैदान अतिक्रमण की चपेट में ,अतिक्रमण होने से हाट बाजार में बदल गया मकर संक्रांति का मेला




लगभग 2.24 एकड़ बेशकीमती मेला भूमि पर चेतराम चौरसिया दवारा अवैध रूप किया गया अतिक्रमण

बरगवां अमलाई/बरगवां में विगत कई वर्षो से लगाया जा रहा मकर संक्राति का बृहद मेला अब अपनी पूरी रौनक खो चुका है। अब यहां महज मेला के नाम पर औपचारिकता ही निभाई जाती है। इसकी वजह है कि मेला जिस मैदान पर लगाया जाता है, वह पूरी तरह से अतिक्रमण की चपेट में आ चुका है। जगह कम होने से मेला का स्वरूप भी छोटा होता चला गया। वहीं व्यापारियों का भी मोह भंग हो गया। कभी बड़े मैदान में लगाने वाला वाला यह मेला अब महज दो चार दुकानों और कुछ ठेलो में में सिमिट कर रह गया है ग्राम पंचायत बरगवां के तत्वावधान में आयोजित इस मेले में करीब सैकड़ों बड़ी दुकानें लगती है। इसके अलावा दर्जनों मनोरंजन के साधन आते हैं, साथ ही सैकड़ो की तादाद में चलित व्यापारियों की इसमें आवक होती है। मेले में दो दिवसीय सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होते है। सिद्ध हनुमान मंदिर एवं जिला स्तरीय मेला होने से इसमें दूरदराज तक से रोजाना हजारों दर्शक व धर्मावलम्बियों का आना जाना होता था । परन्तु शासन की बेशकीमती भूमि खसरा क्रमांक 144 /1 रकवा 0,9100 पर चेतराम चौरसिया दवारा अवैध रूप से अतिक्रमण कर कच्चे मकान,व पक्के दीवार बना ली है। साथ ही अतिक्रमी इस जमीन पर खेती कर रहा हैं। प्रशासन की उदासीनता से अतिक्रमण का सिलसिला लगातार जारी है। मेला स्थल पर हो रहे अतिक्रमण से मेले मे कम तादाद में भूखण्डों का आवंटन होने के साथ ही बाजार की चौड़ाई कम रहती है। जिससे लोगों को आने जाने में परेशानी आती है। मेला मैदान पर किए गए इस अतिक्रमण को लेकर ग्रामीण कई बार मांग उठा चुके हैं तहसीलदार को भी लिखित में शिकायत की गई। लेकिन इस अतिक्रमण को हटाया नहीं जा सका , जिसके चलते यहां का मेला का मूल स्वरुप विलुप्त होने के कगार पर पहुंचने लगा है

इनका कहना है

अगर वहां पुनः अतिक्रमण हुआ है तो जांच कर अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही की जाएगी इसके पहले भी उक्त भूमि पर अतिक्रमण हटाने संबंधी कार्यवाही हो चुकी है

(भागीरथ लहरे, तहसीलदार अनुपपुर )

Popular posts
आम जनता’’ के लिए बजट! परन्तु ‘‘आम’’ व्यक्ति गायब?
Image
शिक्षाविद गिजूभाई सम्मान 2023 राज्य स्तरीय सम्मान से सम्मानित हुए शिक्षक
Image
कारगिल विजय दिवस: 18 हजार फीट की ऊंचाई, 527 जवान शहीद, तब फहरा था तिरंगा
खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री बिसाहूलाल सिंह का 17 सितम्बर को होगा अनूपपुर आगमन 20 सितंबर तक रहेंगे अनूपपुर के प्रवास पर, गरीब कल्याण सप्ताह के कार्यक्रमों में होंगे शामिल  
Image