जनजातीय विश्वविद्यालय अमरकंटक में विद्यार्थी परिषद के दो गुटो के बीच हई जमकर मारपीट

कुलसचिव और प्रॉक्टर सहित प्रबंधन को करनी बड़ी मसक्कत, दोषी छात्रो को किया गया 15 दिनों के लिए निष्काषित, शराब रखने के आरोप में चार छात्रो पर निष्काषन की कार्यवाही





मैंकल पर्वत के तराई में स्थित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय, अमरकंटक में 20 जनवरी और 21 जनवरी की दरमियानी रात अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के दो गुटो के बीच लगभग पांच घंटे जमकर मारपीट हुई। घटना को शांत कराने में विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो. हरि नारायण मूर्ति, चीफ वार्डन प्रो. नवीन कुमार शर्मा, प्रॉक्टर प्रो. एमटीवी नागराजू, प्रो. संतोष सोनकर, प्रो. नरेश सोनकर सहित 50 टीचरों ने हंगामा को रोकने का भरसक प्रयास किया परंतु प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार चाल, चरित्र और चेहरे की बात करने वाली छात्र संगठन जो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अनुषांगिक संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के छात्र नशे में चूर होकर प्रोफेसर और गुरूओं की उपस्थिति में सारी सीमाएं लांघते हुए पांच घंटे तक विश्वविद्यालय परिसर में अफरा-तफरी का माहौल बनाए रखा घटना में एक दर्जन से अधिक छात्रों को चोट आई है चार छात्रों को गंभीर हालत में जिला अस्पताल रेफर किया गया। जहा उनका इलाज किया गया। 

अमरकंटक। इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय, अमरकंटक में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के छात्र नेताओं के दो गुटों में  नशे में चूर होकर रातभर मारपीट, तोड़फोड़, गालीगलौज, उपद्रव हंगामा किया गया। घटना के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार विश्वविद्यालय के गोविंद गुरु बॉयज हॉस्टल तथा ओबीसी हॉस्टल के एबीवीपी के छात्र नेताओं ने बीती रात को 11ः00 बजे से लेकर सुबह 4ः00 बजे तक नशा के हालत में आपस में मारपीट करते हुए पूरे विश्वविद्यालय परिसर में आतंक का वातावरण मचाए रहे विष्वविद्यालय प्रबंधन के लगभग 50 टीचरों ने हंगामा को रोकने का बहुत प्रयास किया लेकिन एबीवीपी के छात्रनेता नशे की हालत में इतनी चूर थे कि इतने प्रोफेसर के रोकने के बाद भी नहीं रुके और एक-दूसरे का हाथ, पैर, कमर, सर फोड़ दिए हैं। 

ये हुए घायल

एबीवीपी के तीन छात्रनेता शुभम सोलंकी, शिवम सोलंकी, रत्नेश राव अंबेडकर अनूपपुर जिला अस्पताल में गंभीर हालत में भर्ती हैं। जबकि एबीवीपी के संयोजक छात्रनेता आयुष राय एवं कई छात्र नेता अमरकंटक और विश्वविद्यालय के अस्पताल में इलाज करा रहे हैं। सूत्रों के अनुसार मारपीट के दौरान बीच बचाव में आए प्रोफेसरों पर भी हाथ साफ करने में एबीवीपी के छात्र नेताओं ने गुरेज नही की।

नही हुई पुलिस में शिकायत

विष्वविद्यालय प्रबंधन इसे छात्रो के बीच आपस में मामूली लडाई बताते हुए छात्रो के भविष्य का हवाला देते हुए पुलिस में षिकायत न करने की बात मानी है लेकिन पीडित छात्रो की माने तो एबीवीपी के संगठन मंत्री तथा एक प्रोफेसर के दबाव में घटना कि जानकारी पुलिस को नही दी जा रही है। बीती रात गाली गलौज, हंगामा, तोड़फोड़ छात्रनेताओं ने शीशा, दरवाजा, कंप्यूटर और मोबाइल तोड़कर रातभर मारपीट हंगामा किये है घटना की प्राथमिक जांच में दोषी छात्रो को 15-15 दिन के लिए निष्काषित कर जांच की जा रही है।

नवीन कार्यकारिणी की घोषणा है विवाद का कारण!

घटना का मुख्य कारण यह है की हाल ही में दिनांक 18 जनवरी 2024 को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नवीन कार्यकारिणी की घोषणा इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय के लिए किया गया। इसमें पदों की बंटवारा को लेकर उसी दिन से एबीवीपी के दो गुटों में विवाद हो रहा था। इसमें एक गुट पर जातिवाद करने का आरोप लग रहा था। विवाद इतना गहरा गया कि दारू और नशा करके दोनों को आपस में रात भर मारपीट किए।

विश्व  विद्यालय प्रबंधन का है यह कहना 

 इंदिरा गांधी   राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय अमरकंटक के मुख्य अधीक्षक छात्रावास प्रोफेसर नवीन शर्मा ने हमे घटना के संबंध में एक लिखित ब्यान व्हाट्सएप के माध्यम से घटना के संबंध में भेजा है जिसके अनुसार दिनांक 20 जनवरी 2024 को रात्रि 10ः30 से 1 बजे के दरमियान छात्रों के दो गुटों के बीच मारपीट की दो घटनाएं हुई है जिसमे 03 छात्रों को चोट आई हैं। पहली घटना में गोविन्द गुरु बालक छात्रावास के कुछ छात्र जिनकी संख्या 30-40 बताई जा रही है रात्रि 10ः30 से 11ः30 के दरमियान न्यू बॉयज छात्रावास में द गए और उन्होंने न्यू बॉयज छात्रावास के बच्चों से मारपीट की 1 प्रत्युत्तर में न्यू बॉयज छात्रावास के 2-3 छात्र गोविन्द गुरु छात्रावास गए और उन्होंने वहां अन्य छात्रों से मारपीट की। मारपीट में दोनों तरफ के कुछ छात्रों को चोट लगी है।

चोटिल छात्रों को इलाज हेतु जिला चिकित्सालय रेफर  

इंदिरा गंाधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय अमरकंटक के मुख्य अधीक्षक छात्रावास प्रोफेसर नवीन शर्मा के अनुसार चोटिल छात्रों में से शुभम सिंह सोलंकी, शिवम् सिंह सोलंकी, रत्नेश राव को स्थानीय मेडिकल सेंटर में प्राथमिक इलाज के बाद आवश्यकतानुसार जिला चिकित्सालय अनूपपुर के लिए एंबुलेंस से भेजा गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार उनकी स्थिति ठीक है।

दोषी छात्रों को 15 दिनो के लिए किया गया निष्कासित

 इंदिरा गांधी    राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय अमरकंटक के मुख्य अधीक्षक छात्रावास प्रोफेसर नवीन शर्मा के अनुसार घटना स्थल पर विश्वविद्यालय प्रशासन की तरफ से कुलसचिव, छात्र कल्याण अधिष्ठाता, कुलानुशासक, उप कुलानुशासक और मुख्य छात्रावास अधीक्षक मौजूद रहे, घटना के प्रारंभिक जांच के बाद छात्र प्रकल्प पाठक, मानस मिश्र, शुभम सिंह सोलंकी, शिवम् सिंह सोलंकी, रत्नेश राव को कारण बताओ नोटिस जारी करने के साथ तत्काल प्रभाव से आगामी 15 दिनों के लिए विश्वविद्यालय से निष्कासित कर दिया गया है। कुछ छात्र जिनका अभी उपचार चल रहा है उनको वहां से लौटने के बाद नोटिस दिया जायेगा।

जांच पूरी होने पर होगी कार्यवाही

मुख्य अधीक्षक छात्रावास प्रोफेसर नवीन शर्मा ने बताया कि छात्रों के भविष्य को देखते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन की तरफ से अभी तक संबंधित थाने में कोई प्राथमिकी नहीं दर्ज कराई गई है। जांच पूरी होने पर यदि आवश्यक हुआ तो यथोचित कार्यवाही की जाएगी। 

शराब रखने के आरोप में छात्रों को किया गया निष्कासित

एक सवाल का जवाब देते हुए मुख्य अधीक्षक छात्रावास प्रोफेसर नवीन शर्मा ने बताया कि दिनांक 28 जनवरी 2024 शाम 7ः30 बजे विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार पर विश्वविद्यालय सुरक्षा बल द्वारा किये गए औचक निरीक्षण में छात्र शिजिल वी. पी., अब्दुल राउफ, अभिलाष एस. बी. एवं नवीन तिवारी को मादक द्रव्य (मदिरा) के साथ पकड़ा गया, जिसको जब्त करते हुए उक्त छात्रों का छात्रावास आवंटन रद्द करते हुए विश्वविद्यालय से 15 दिन के लिए निष्काषित कर दिया गया है । छात्रों के पास से गांजा, चरस जैसे मादक पदार्थों के बरामद होने की खबर असत्य है। विश्वविद्यालय मुख्य परिसर के बाहर ऐसे वर्ज्य मादक पदार्थों की सहज उपलब्धता चिंता का विषय है, उक्त विषय को स्थानीय जिला प्रशासन के संज्ञान में लाये जाने कि आवश्यकता है।